फोटो गैलरी

Hindi News लाइफस्टाइल हेल्थबड़ी उम्र में प्रेग्नेंसी के क्या हैं खतरे, एक्सपर्ट ने बताया रखें कौन सी सावधानियां

बड़ी उम्र में प्रेग्नेंसी के क्या हैं खतरे, एक्सपर्ट ने बताया रखें कौन सी सावधानियां

40 के बाद बच्चा पैदा करना सुरक्षित है या नहीं, गर्भाशय में गाठें बच्चा पैदा करने में रुकावट हैं, पीरियड्स में दिमाग क्यों स्लो चलता है...ऐसे कई सवाों के जवाब यहां हेल्थ एक्सपर्ट ने दिए हैं, देखें यहां

बड़ी उम्र में प्रेग्नेंसी के क्या हैं खतरे, एक्सपर्ट ने बताया रखें कौन सी सावधानियां
Kajal Sharmaहिंदुस्तान,नई दिल्लीWed, 13 Dec 2023 05:23 PM
ऐप पर पढ़ें

हम सबकेपास ढेरों सवाल होते हैं, बस नहीं होता जवाब पाने का विश्वसनीय स्रोत। इस कॉलम केजरिये हम एक्सपर्ट की मदद से आपके ऐसे ही सवालों केजवाब तलाशने की कोशिश करेंगे। इस बार गाइनेकोलॉजिस्ट देंगी आपकेसवालों के जवाब। हमारी एक्सपर्ट हैं, डॉ. अर्चना धवन बजाज...

सवाल: मेरा पांच साल का बेटा है। हम एक और बच्चा चाहते हैं। पर, मेरी उम्र 42 साल है और मुझे डर है कि ज्यादा उम्र में गर्भधारण करना ठीक होगा या नहीं? इस बारे में आपकी क्या सलाह होगी? मुझे किन बातों को ध्यान में रखना चाहिए?
- इरा श्रीवास्तव, नई दिल्ली
जवान: 40 साल की उम्र के बाद तकनीकी रूप से ना सिर्फ गर्भधारण करना मुश्किल होता है बल्कि अंडाणुओं की संख्या और गुणवत्ता में भी गिरावट होने लगती है। इस उम्र में जो गर्भधारण होता भी है, उसमें जेनेटिक समस्याएं होने की आशंका थोड़ी ज्यादा होती है। अगर आप गर्भधारण की योजना बना रही हैं, तो पहले गाइनेकोलॉजिस्ट से मिलकर सलाह ले लीजिए कि आपके शरीर में एंटी-मुलरियन हार्मोन यानी एएमएच का स्तर ठीक है या नहीं। क्या आप मेडिकली गर्भधारण के लिए फिट हैं? अगर गाइनेकोलॉजिस्ट आपको गर्भधारण की सलाह देती है, तो इस दौरान आपको कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना होगा। ज्यादा उम्र में होने वाली प्रेग्नेंसी में गर्भपात की आशंका थोड़ी ज्यादा होती है। गर्भ में पल रहे बच्चे में जेनेटिक समस्याएं होना आम है। साथ ही मां को उच्च रक्तचाप व डायबिटीज जैसी समस्याएं होने की आशंका भी ज्यादा होती है। पूरी प्रेग्नेंसी आपको डॉक्टरी देखरेख में रहना होगा। बच्चे के जेनेटिक सेहत की जांच के लिए समय से आपको जरूरी जांच करवानी होगी। अगर यह सब ठीक है, तो ध्यान रखकर और जरूरी एहयतियात बरतकर आपकी प्रेग्नेंसी सामान्य और सुरक्षित रहेगी।

सवाल: मेरी उम्र 28 साल है और मेरे गर्भाशय में कुछ  गांठें हैं। मेरी डॉक्टर ऑपरेशन से गांठों को हटाने के पक्ष में नहीं हैं। उनका कहना है कि मैं गर्भधारण नहीं कर सकती। क्या डॉक्टर द्वारा दी गई यह सलाह ठीक है या गर्भधारण के लिए मेरे पास कोई और विकल्प भी है?           
- कोमल सिंह, रांची
जवाब: गर्भाशय में गांठें अमूमन फाइब्रॉयड्स या एडिनोमायोसिस होते हैं। अगर वे गर्भाशय के अंदर की परत को किसी तरह से नुकसान नहीं पहुंचा रहे हैं, तो उनको निकालना जरूरी नहीं होता। फाइब्रॉयड्स के साथ प्रेग्नेंसी संभव है और नहीं भी। इसे ऑपरेशन के द्वारा बाहर निकालने का निर्णय मरीज पर निर्भर करता है। साथ ही गांठ किस जगह पर है और उसका आकार कितना है, यह भी गर्भधारण में मायने रखता है। फाइब्रॉयड निकालना तभी जरूरी होता है, जब वह गर्भधारण में या उसे जारी रखने में किसी भी तरह का रुकावट पैदा करता हो। एडिनोमायोसिस को अमूमन दवाओं के माध्यम से ही नियंत्रित कर लिया जाता है। अगर डॉक्टरी परामर्श के मुताबिक सही तरीके से गर्भधारण की योजना बनाई जाए, तो मां बनने का आपका सपना पूरा हो सकता है।

सवाल: पिछले कुछ समय से खासतौर से पीरियड के दौरान मैं छोटी-छोटी बातें भी बहुत ज्यादा भूलने लगती हूं। ऐसा क्यों होता है? इसका पीरियड से क्या कनेक्शन है और स्थिति में कैसे सुधार लाया जाए?                     
 -तन्वी तिवारी, लखनऊ
जवाब: पीरियड्स में मूड स्विंग, ब्रेन फॉग और कभी-कभी कुछ बातें भूल जाना सामान्य है। ये समस्याएं स्थायी नहीं होतीं और अकसर हार्मोनल बदलावों, दर्द और असहजता के कारण होती हैं और पीरियड खत्म होने के बाद ठीक हो जाती हैं। पहेलियां सुलझाना, सुडोकू सॉल्व करना, किताबें पढ़ना, योग, ध्यान व व्यायाम करना, प्रचुर मात्रा में पानी पीना, नमक और चीनी का सेवन कम करना, एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करना और दिमाग को चीजों को याद रखने की ट्रेनिंग देना आदि ब्रेन फॉग से बचने के प्राकृतिक उपाय हैं। अगर इसके बावजूद भी समस्या ज्यादा महसूस हो, तो डॉक्टरी परामर्श के अनुरूप मदद लेना आपके लिए प्रभावी साबित होगा।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें