फोटो गैलरी

Hindi News लाइफस्टाइल हेल्थHeart Attack And Cardiac Arrest: हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट में होता है अंतर, क्या आप जानते हैं?

Heart Attack And Cardiac Arrest: हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट में होता है अंतर, क्या आप जानते हैं?

Heart Attack And Cardiac Arrest Difference: आए दिन दिल संबंधी बीमारियों से लोग परेशान हो रहे हैं। हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट से कई लोगों की जान भी गई है। लेकिन क्या आपको इन दोनों में फर्क पता है?

Heart Attack And Cardiac Arrest: हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट में होता है अंतर, क्या आप जानते हैं?
Avantika Jainलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 14 Apr 2024 03:52 PM
ऐप पर पढ़ें

Kya hota hai Heart Attack And Cardiac Arrest Fark: इन दिनों ज्यादातर लोग दिल संबंधी बीमारियों से जूझ रहे हैं। ऐसा खराब लाइफस्टाइल और बहुत ज्यादा तला खाने से हो रहे हैं। बीते दिनों बहुत से सेलिब्रिटीज भी हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट के कारण अपनी जान गवां चुके हैं। इन दोनों ही समस्याओं को लोग एक समझते हैं। हालांकि, दोनों के बीच काफी अंतर है। यहां जानिए हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट में क्या फर्क होता है। 

हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट में क्या अंतर है?
-दिल का दौरा तब आता है जब एक ब्लॉक्ड धमनी ब्लड को दिल के एक हिस्से तक पहुंचने से रोकती है। जबकि कार्डियक अरेस्ट तब होता है जब दिल का इलेक्ट्रिकल सिस्टम फेल हो जाता है।

- दिल के दौरे के दौरान, हृदय की मांसपेशियां जरूरी ब्लड फ्लो से वंचित हो जाती हैं। वहीं कार्डिएक अरेस्ट के दौरान व्यक्ति का हृदय मस्तिष्क सहित पूरे शरीर में ब्लड फ्लो करना बंद कर देता है।

- जब आर्टिरीज में ब्लड फ्लो रुक जाता है तो ऑक्सीजन की कमी से हार्ट का के कुछ हिस्से खत्म होने लगते हैं। वहीं, दूसरी तरफ कार्डिएक अरेस्ट में दिल अचानक से धड़कना बंद कर देता है। 

- कई लोगों में कार्डियक अरेस्ट दिल का दौरा पड़ने के कारण होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि जिस व्यक्ति को दिल का दौरा पड़ रहा है, उसमें खतरनाक हृदय गति विकसित हो सकती है, जो कार्डियक अरेस्ट का कारण बन सकती है।

क्या होते हैं लक्षण?
दिल का दौरा पड़ने के दौरान, सीने में दर्द, सांस लेने में तकलीफ और मतली जैसे लक्षण मौजूद हो सकते हैं, जबकि कार्डियक अरेस्ट के मामले में एक व्यक्ति अचानक गिर सकता है और घटना से पहले कोई चेतावनी संकेत या लक्षण नहीं दिखते।

नोट- दिल का दौरा और कार्डियक अरेस्ट दोनों ही आपातकालीन स्थितियां हैं। ऐसे में कोई भी लक्षण दिखने पर डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें। 

Uric Acid: बढ़े हुए यूरिक एसिड से हो सकती हैं दिक्कतें, जानिए मैनेज करने का आयुर्वेदिक तरीका

डिस्क्लेमर: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीकों व दावों को केवल सुझाव के रूप में लें। इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट और सुझाव पर अमल करने से पहले डॉक्टर या एक्सपर्ट से सलाह लें।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें