फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ लाइफस्टाइल हेल्थफायदा ही नहीं नुकसान भी पहुंचाता है तुलसी का अधिक सेवन, ये होते हैं साइडइफेक्ट्स

फायदा ही नहीं नुकसान भी पहुंचाता है तुलसी का अधिक सेवन, ये होते हैं साइडइफेक्ट्स

तुलसी का सेवन करने से खून का जमाव, प्रतिरक्षा को बढ़ाने मिलने के साथ सर्दी, खांसी, जुकाम को भगाने में भी राहत मिलती है। सेहत के लिए इतनी गुणकारी होने के बावजूद क्या आप जानते हैं इसका जरूरत से ज्यादा स

फायदा ही नहीं नुकसान भी पहुंचाता है तुलसी का अधिक सेवन, ये होते हैं साइडइफेक्ट्स
Manju Mamgainलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीFri, 20 May 2022 01:02 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

Disadvantages Of Basil Leaves: तुलसी को हिंदू धर्म में ही नहीं बल्कि आयुर्वेद में भी बेहद गुणकारी माना गया है। तुलसी के आध्यात्मिक और औषधीय गुणों की वजह से आयुर्वेद में इसे अमृत कहा जाता है। तुलसी का सेवन करने से खून का जमाव, प्रतिरक्षा को बढ़ाने मिलने के साथ सर्दी, खांसी, जुकाम को भगाने में भी राहत मिलती है। सेहत के लिए इतनी गुणकारी होने के बावजूद क्या आप जानते हैं इसका जरूरत से ज्यादा सेवन करने से आपकी सेहत को फायदे से ज्यादा नुकसान भी हो सकता है। आइए जानते हैं कैसे।  

तुलसी का ज्यादा सेवन करने से सेहत को हो सकते हैं ये नुकसान-
-डायबिटीज-

तुलसी की पत्तियों में हाइपोग्लाइसेमिक लेवल को कंट्रोल करने वाले गुण मौजूद होते हैं। यही वजह है कि तुलसी के पत्ते चबाने से व्यक्ति का ब्लड शुगर लेवल कम होता है। ऐसे में अगर आपका शुगर लेवल पहले से ही लो रहता है या फिर आप शुगर की दवाइयां ले रहे हैं तो तुलसी का अधिक सेवन करने से बचें। तुलसी का अधिक सेवन करने से ब्लड शुगर में बहुत ज्यादा कमी आ सकती है। जो उनके लिए नुकसानदेह हो सकता है।

गर्भवती महिलाएं- 
तुलसी में मौजूद यूजेनॉल महिलाओं के पीरियड शुरू होने का कारण बन सकता है। इतना ही नहीं तुलसी का अधिक सेवन करने से प्रेगनेंसी में डायरिया की समस्या भी हो सकती है। यही वजह है कि गर्भवती महिलाओं को तुलसी का सेवन करने की सलाह नहीं दी जाती है।

खून पतला कर सकती है तुलसी-
तुलसी के पत्तों में कई ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो खून को पतला करने में मदद कर सकते हैं। ज्यादा मात्रा में तुलसी का सेवन ब्लड को पतला करके कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। ऐसे में ज्यादा मात्रा में तुलसी का सेवन करें से बचें।

फर्टिलिटी हो सकती है प्रभावित-
अधिक मात्रा में तुलसी का सेवन करने से स्पर्म काउंट की संख्या कम हो सकती है। कई शोध कहते हैं कि तुलसी का अधिक सेवन करने से फर्टिलाइज्ड एग के गर्भाशय से अटैच होने की संभावना भी कम हो सकती है।

जलन-
तुलसी की तासीर गर्म होने की वजह से इसका अत्यधिक सेवन करने से पेट में जलन पैदा हो सकती है। यही वजह है कि तुलसी का सेवन सीमित मात्रा में ही करने की सलाह दी जाती है।

दांतों को करते हैं खराब- 
तुलसी के पत्तों को चबाकर खाना दांतों के लिए नुकसान दायक साबित हो सकता है। तुलसी के पत्तों में पारा और आयरन की मात्रा पाई जाती है। इसमें कुछ मात्रा में आर्सेनिक भी पाया जाता है, जिससे दांत खराब हो सकते हैं। इससे दांतों में दर्द की समस्या हो सकती है।

epaper