फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News लाइफस्टाइल हेल्थडायबिटीज पर ICMR की डराने वाली रिपोर्ट, भारत में मधुमेह की चपेट में 10 करोड़ से ज्यादा लोग

डायबिटीज पर ICMR की डराने वाली रिपोर्ट, भारत में मधुमेह की चपेट में 10 करोड़ से ज्यादा लोग

Diabetes Patient In India: डायबिटीज पर ICMR की डराने रिपोर्ट, भारत में मधुमेह की चपेट में 10 करोड़ से ज्यादा लोग डायबिटीज पर ICMR की डराने वाली रिपोर्ट, भारत में मधुमेह की चपेट में 10 करोड़ से ज्याद

डायबिटीज पर ICMR की डराने वाली रिपोर्ट, भारत में मधुमेह की चपेट में 10 करोड़ से ज्यादा लोग
Manju Mamgainलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीFri, 09 Jun 2023 02:05 PM
ऐप पर पढ़ें

Diabetes Patient In India: खराब लाइफस्टाइल और अनुवांशिक कारणों की वजह से आज भारत में डायबिटीज के मरीज तेजी से बढ़ रहे हैं। डायबिटीज कम हो या ज्यादा, दोनों ही स्थितियों में रोगी की सेहत के लिए खतरा पैदा कर सकता है। दरअसल, खून में जब ग्लूकोज की मात्रा ज्यादा या कम होने लगती है तो उसे डायबिटीज रोग कहा जाता है। जबकि प्री-डायबिटिक व्यक्ति वह होता है, जिसका ब्लड शुगर लेवल सामान्य से ज्यादा है लेकिन इतना ज्यादा नहीं है कि उसे टाइप-2 डायबिटीज की श्रेणी में रखा जा सके। हाल ही में ICMR की एक स्टडी ने मधुमेह पर चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। 

यूके मेडिकल जर्नल 'लासेंट' में प्रकाशित हुई ICMR की इस स्टडी के अनुसार साल 2019 में 7 करोड़ लोग डायबिटीज से पीड़ित थे जबकि वर्तमान समय में यह संख्या बढ़कर 10.1 करोड़ हो गई है। जिसके बाद स्टेट के स्तर पर तत्काल कदम उठाने की जरूरत बताई गई है।

ICMR की स्टडी में सामने आया अलार्मिंग डेटा बताता है कि भारत में 10 करोड़ से ज्यादा लोगों को डायबिटीज हो चुका है और 13.6 करोड़ लोग प्री-डायबेटिक हैं।  देश में 11.4% लोग डायबेटिक हैं और 15.3% प्री-डायबेटिक हैं। जिसका मतलब है एक-चौथाई से अधिक लोग डायबिटीज की चपेट में आ चुके हैं और 35.4% लोगों को हाइपरटेंशन की समस्या है। बता दें, इस सर्वे में 20 साल और इसके अधिक उम्र के लोगों को शामिल किया गया था।

डायबिटीज रोगी किस राज्य में सबसे ज्यादा-
ICMR की स्टडी के अनुसार फिलहाल सबसे ज्यादा डायबिटीज रोगी अभी गोवा (26.4%) में है। हालांकि स्टडी में यह भी कहा गया है कि वर्तमान सममय में कम प्रसार वाले यूपी, एमपी, बिहार और अरुणाचल प्रदेश जैसे राज्यों में आने वाले कुछ वर्षों में 'डायबिटीज विस्फोट' हो सकता है। स्टडी के लेखक और मद्रास डायबिटीज रिसर्च फाउंडेशन के अध्यक्ष डॉ. रंजीत मोहन अंजना के अनुसार पुदुचेरी और दिल्ली में डायबिटीज और प्री-डायबिटीज रोगियों की संख्या लगभग बराबर है। ऐसे में यह बीमारी स्थिरता की स्थिति में है। लेकिन चिंता की बात यह है कि जिन राज्यों में डायबिटीज मरीजों की संख्या कम है, वहां वैज्ञानिकों को प्री-डायबिटिक लोगों की संख्या ज्यादा देखने को मिली है। 

डॉक्टर्स की मानें तो प्री-डायबिटिक लोगों में से एक तिहाई लोग अगले कुछ वर्षों में मधुमेह की चपेट में आने वाले हैं और बाकी एक तिहाई प्री-डायबिटिक बने रह सकते हैं। ऐसे में बचे हुए लोग हेल्दी डाइट,अच्छी जीवनशैली और एक्सरसाइज जैसी चीजों को अपनी दिनचर्या में शामिल करके इस खतरे को दूर कर सकते हैं। 

डीजी आईसीएमआर डॉ राजीव बहल के अनुसार डायबिटीज और प्री-डायबिटीज भारत में लोगों के बीच काफी प्रचलित हैं। ऐसे में यह समझने की जरूरत है कि समाज में बदलाव लाते हुए इसे लोगों के बीच बढ़ने से कैसे रोका जाए ताकि हृदय रोग, उच्च रक्तचाप और अन्य रोगों के जोखिम को कम किया जा सके। अपने इस सवाल का जवाब देते हुए डॉ राजीव बहल कहते हैं जीवन शैली में स्वस्थ आहार और वर्कआउट को शामिल करके भी व्यक्ति सेहतमंद बना रह सकता है।