Hindi Newsलाइफस्टाइल न्यूज़हेल्थoversleeping side effects of waking late in the morning der tak sone ke nuksaan obesity weak immunity depression

देर तक सोने वाले हो जाएं सावधान! साइड इफेक्ट्स सुनकर उड़ जाएगी नींद

Reasons why we should not sleep late: एक स्टडी के अनुसार जो लोग रोजाना रात को 9 या 10 घंटे सोते हैं, ऐसे लोगों में 6 साल के भीतर मोटापे से ग्रस्त होने की संभावना 7 से 8 घंटे के बीच सोने वाले लोगों की तुलना में 21 प्रतिशत ज्यादा बनी रहती है।

Reasons why we should not sleep late
Manju Mamgain लाइव हिन्दुस्तानFri, 7 June 2024 08:54 AM
हमें फॉलो करें

Reasons why we should not sleep late: आपने बचपन से घर के बड़े-बुर्जुगों को रात को जल्दी सोने और सुबह जल्दी उठने की सलाह देते हुए सुना होगा। लेकिन आजकल की भागती-दौड़ती लाइफस्टाइल की वजह से सोने-जागने का ये सेट रूटिन फॉलो करना हर व्यक्ति के लिए आसान काम नहीं है। आज लोगों की दिनचर्या पूरी तरह बदल गई है। देर रात काम करने वाले लोग रात को देर से सोते हैं और फिर सुबह देर तक सोते ही रहते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं इन मशीनी जिंदगी का आपकी सेहत पर कितना गहरा असर पड़ रहा है। डॉक्टरों की मानें तो देर से सोकर उठने वाले लोगों में दिल, दिमाग और पेट से जुड़ी कई समस्याएं देखने को मिलती है। एक स्टडी के अनुसार जो लोग रोजाना रात को 9 या 10 घंटे सोते हैं, ऐसे लोगों में 6 साल के भीतर मोटापे से ग्रस्त होने की संभावना 7 से 8 घंटे के बीच सोने वाले लोगों की तुलना में 21 प्रतिशत ज्यादा बनी रहती है।

मेडिकल जर्नल ऑफ अमेरिकन एकेडमी ऑफ न्यूरोलॉजी की एक स्टडी के अनुसार जो लोग मिड डे नैप 90 मिनट से ज्यादा लेते हैं, जिसमें 25 परसेंट तक स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है, क्योंकि अधिक सोने से कोलेस्ट्रॉल के लेवल में गड़बड़ी हो सकती है।

मेंटल हेल्थ को नुकसान-

सुबह देर तक सोने वाले लोगों की मानसिक सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है। हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, ऐसा करने वालों में चिड़चिड़ापन, डिप्रेशन और मूड स्विंग जैसी समस्याएं बाकी लोगों की तुलना में ज्यादा बढ़ सकती है।

मोटापा -

जो लोग देर तक सोते रहते हैं, उनका मेटाबॉलिक रेट काफी लो रहता है। जिसकी वजह से उन्हें कुछ भी खाने के बाद कैलोरी बर्न करने में परेशानी आती है। जिससे शरीर में फैट जमा होने लगता है और उन्हें मोटापे की समस्या घेर सकती है। दिनभर में 8 घंटे की नींद लेना आपके लिए पर्याप्त है। ओवरस्लीपिंग करने से व्यक्ति का वजन धीरे धीरे बढ़ने लगता है।

पाचन से जुड़ी समस्याएं-

सुबह देर तक सोते रहने से पाचन तंत्र भी बुरी तरह प्रभावित हो सकता है। इससे बाउल धीमी गति से काम करता है। जो आगे चलकर कॉन्स्टिपेशन और पाइल्स की समस्या पैदा कर सकता है।

ब्लड प्रेशर-

देर तक सोने वाले लोगों को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या देखी जाती है। स्लीप फाउनडेशन के अनुसार जो लोग 9 घंटे से ज्यादा सोते है, वो किसी न किसी सेहत से जुड़ी समस्या के शिकार होते हैं। दरअसल, सुबह देर तक सोने वालों को सही तरह धूप नहीं मिल पाती है और शरीर का हार्मोन्स अपना संतुलन खोने लगते हैं। जिससे ब्लड प्रेशर लेवल और कोलेस्ट्रॉल का लेवल भी बढ़ सकता है। जो आगे चलकर हार्ट से जुड़ी कई गंभीर बीमारियों को न्योता दे सकता है।

डिप्रेशन-

एनसीबीआई की एक रिसर्च के अनुसार जो लोग ज्यादा सोते हैं, उन्हें डिप्रेशन होने का खतरा अधिक बना रहता है। डिप्रेशन से पीड़ित 15 फीसदी लोग अधिक सोते हैं। इस समस्या से बचने के लिए ज्यादा सोने पर नियंत्रित रखना चाहिए।

लेटेस्ट   Hindi News,  लोकसभा चुनाव 2024,  बॉलीवुड न्यूज,  बिजनेस न्यूज,  टेक,  ऑटो,  करियर ,और   राशिफल, पढ़ने के लिए Live Hindustan App डाउनलोड करें।

ऐप पर पढ़ें