Hindi Newsलाइफस्टाइल न्यूज़हेल्थknow carom seed water benefits after delivery and for weight loss know the benefits

डिलीवरी के बाद महिलाओं को दिया जाता है अजवाइन का पानी, जानें सबके लिए क्यों है फायदेमंद

  • अजवाइन के पानी के फायदे: अजवाइन के बीच खाने का स्वाद ही नहीं बढ़ाते बल्कि हेल्थ के लिए काफी अच्छे होते हैं। अगर आप जानना चाहते हैं कि आपको क्यों इन्हें अपने रुटीन में शामिल करना चाहिए तो पढ़ें...

Kajal Sharma लाइव हिन्दुस्तानTue, 14 May 2024 05:38 PM
हमें फॉलो करें

भारतीय किचन के मसाले औषधियों का काम करते हैं, यह बात आप कई बार पढ़ और सुन चुके होंगे। एक ऐसा ही मसाला है अजवाइन जो कि बीज के रूप में कई डिशेज में इस्तेमाल किया जाता है। डिलीवरी के बाद भी महिलाओं को अजवाइन पानी में उबालकर दी जाती है। अजवाइन के कई फायदे होने के बाद भी गर्भवती महिलाओं को डॉक्टर से पूछकर ही खानी चाहिए। यहां जानें कुछ फायदे...

बैक्टीरिया नाशक

अजवाइन में एंटी माइक्रोब्स गुण होते हैं। यानी कि यह बैक्टीरिया और फंगस से बचाता है। इसमें थायमॉल और कार्वाक्रॉल पाया जाता है जो कि बैक्टीरिया, फंगसनाशक है। एक टेस्ट ट्यूब स्टडी के मुताबिक, फूड पॉइनिंग के बैक्टीरिया को भी अजवाइन खत्म कर सकता है। लिहाजा यह आपके पेट के लिए अच्छी हो सकती है।

ब्लड प्रेशर में फायदेमंद

अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर या हायरटेंशन की शिकायत है तो अजवाइन इसमें फायदा कर सकती है। इसमें पाया जाने वाला थायमॉल कैल्शियम चैनल ब्लॉकिंग का काम करता है जिससे धमनियों का प्रेशर कम होता है। हालांकि इस पर और रिसर्च की जाने की जरूरत है।

कोलेस्ट्रॉल में फायदेमंद

एनिमल रिसर्च के मुताबिक अजवाइन के बीच कोलेस्ट्रॉल और ट्राईग्लिसराइड्स के लेवल को कम करते हैं। खरोशों पर हुई स्टडी में सामने आया कि अजवाइन का पाउडर नुकसान पहुंचाने वाले कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और गुड कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है।

वजन कम करने में करता है मदद

अजवाइन में पाया जाने वाला थायमॉल मेटाबॉलिजम तेज करता है साथ ही फैट सेल्स को भी तोड़ता है। अगर आप वजन कम करना चाहते हैं तो रातभर अजवाइन के बीज भिगाकर सुबह इन्हें पानी में उबालकर पीएं।

प्रेग्नेंसी के बाद क्यों देते हैं अजवाइन

अजवाइन में एंटी-इनफ्लेमेटरी और बैक्टीरिया नाशक गुण होते हैं। इससे बच्चा पैदा होने के बाद इन्फेक्शन का खतरा कम हो जाता है। इसके अलावा यह पेट के लिए भी अच्छी होती है। हालांकि गर्भवती महिलाओं और ब्रेस्टफीडिंग कराना शुरू कराने वालों को एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर ले लेनी चाहिए।

ऐप पर पढ़ें