फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News लाइफस्टाइल हेल्थInternational Panic Day 2024: पैनिक अटैक से तुरंत राहत देंगे ये 5 आसान उपाय

International Panic Day 2024: पैनिक अटैक से तुरंत राहत देंगे ये 5 आसान उपाय

International Panic Day 2024: पैनिक अटैक एक ऐसी स्थिति है, जो कई अन्य गंभीर समस्याओं का कारण बन सकती है। बात अगर इसके लक्षणों की करें तो इस समस्या से जुझ रहे व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ, हाथ-पांव कांपना और बहुत ज्यादा घुटन महसूस हो सकती है।

International Panic Day 2024: पैनिक अटैक से तुरंत राहत देंगे ये 5 आसान उपाय
Manju Mamgainलाइव हिन्दुस्तानTue, 18 Jun 2024 08:37 AM
ऐप पर पढ़ें

International Panic Day 2024: आज दुनियाभर में अंतरराष्ट्रीय पैनिक डे 2024 मनाया जा रहा है। यह खास दिन हर साल 18 जून को पैनिक अटैक की वजह से शरीर पर पड़ने वाले प्रभावों के बारे में लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से मनाया जाता है। अध्ययन की मानें तो शहरों में रहने वाले 30 फीसदी लोग अपने जीवन में कम से कम एक बार पैनिक अटैक का सामना जरूर करते हैं। बता दें, पैनिक अटैक एक ऐसी स्थिति है, जो कई अन्य गंभीर समस्याओं का कारण बन सकती है। बात अगर इसके लक्षणों की करें तो इस समस्या से जुझ रहे व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ, हाथ-पांव कांपना और बहुत ज्यादा घुटन महसूस हो सकती है।

एंग्जाइटी और पैनिक अटैक में होता है फर्क-

लोग अकसर एंग्जाइटी और पैनिक अटैक को एक ही चीज समझने लगते हैं। लेकिन आपको बता दें, एंग्जाइटी और पैनिक सुनने में भले ही काफी हद तक एक जैसे लगते हैं लेकिन इन दोनों समस्याओं में काफी फर्क है। एंग्जाइटी एक तरह का मेंटल डिसऑर्डर है जबकि पैनिक अटैक कई बार किसी डर की वजह से पैदा होता है। हालांकि दोनों ही चीजें शरीर के लिए काफी घातक होती हैं। पैनिक अटैक कहीं भी, कभी भी हो सकता है, लेकिन यह अक्सर उन लोगों में होता है जिन्हें पैनिक डिसऑर्डर या चिंता विकार होता है। इस समस्या से बचे रहने के लिए इसके लक्षण और बचाव के उपाय जानना बेहद जरूरी है।

पैनिक अटैक से बचे रहने के लिए अपनाएं ये उपाय-

पैनिक अटैक होने पर खट्टा खाएं-

एंग्जाइटी और पैनिक अटैक महसूस होने पर खुद को तनाव मुक्त रखने के लिए आप खट्टी चीजों का सेवन कर सकते हैं। तनाव के दौरान या फिर चिंतित होने पर नींबू जैसे खट्टे पदार्थ का सेवन करते हैं तो आपका ध्यान चिंता से हटकर नींबू के खट्टे स्वाद की तरफ आकर्षित होने लगता है। अगर आप नींबू पसंद नहीं करते तो आप कोई कैंडी भी खा सकते हैं।

व्यायाम करें-

नियमित रूप से व्यायाम करने से आप बेहतर महसूस कर सकते हैं। रोजाना किया गया व्यायाम चिंता महसूस होने की संभावना को कम कर सकता है। व्यक्ति को एंग्जाइटी और पैनिक अटैक से दूर रहने के लिए सप्ताह में कम से कम 5 दिन 45 मिनट की कसरत जरूर करनी चाहिए। अगर आप ऐसा नहीं कर पा रहे हैं तो रोजाना 10 मिनट की सैर भी आपके लिए जादू का काम कर सकती है।

प्रकृति के साथ समय बिताना-

आज के समय में व्यक्ति का ज्यादातर समय सोशल मीडिया और स्क्रीन के आगे बैठकर गुजरता है। जो तनाव पैदा करने का एक बड़ा कारण है। ऐसे में कुछ देर प्रकृति के साथ गुजारना आपके मन को शांत करने के साथ टेंशन और पैनिक अटैक की संभावनाओं को कम कर सकता है। इसके लिए आप घर की बालकनी में लगे पौधों की देखभाल करके या सैर पर जाकर तनाव, चिंता और अवसाद को कम कर सकते हैं। ऐसा करने से रक्तचाप, कोलेस्ट्रॉल लेवल, हृदय गति और तनाव वाले हार्मोन को कम करने में मदद मिलेगी। जो कि चिंता महसूस करने पर अकसर बढ़ जाते हैं।

मेडिटेशन-

नियमित मेडिटेशन का अभ्यास चिंता को कम करने में मदद करता है। यह आपको अपने जीवन पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है। दरअसल, दिनभर काम में बिजी होने की वजह से शरीर के साथ ही दिमाग थक जाता है और उसकी एनर्जी खत्म हो जाती है। ऐसे में दिमाग को एनर्जी देने के लिए मेडिटेशन बहुत जरूरी है।

गहरी सांस लें-

जब आपको कभी अचानक से घबराहट होने लगे या फिर चक्‍कर आने लगे तो आप गहरी सांसें लेना शुरू कर दें। नाक के द्वारा जल्‍दी-जल्‍दी सांस लें। उसके बाद सांस को थोड़ा सा रोककर फिर से लंबी-लंबी सांस लें। मुंह से भी ऑक्‍सीजन लेने की कोशिश करें। कुछ देर से मुंह से सांस रोककर फिर से मुंह में ऑक्‍सीजन भरें।