Hindi Newsलाइफस्टाइल न्यूज़हेल्थexpert advice to reduce period pain body heat in pregnancy

क्या पीरियड्स में होने वाले दर्द में पेन किलर लेना सही है? जानें क्या कहती हैं डॉक्टर

हम सबके पास ढेरों सवाल होते हैं, बस नहीं होता जवाब पाने का विश्वसनीय स्रोत। इस कॉलम के जरिये हम एक्सपर्ट की मदद से आपके ऐसे ही सवालों के जवाब तलाशने की कोशिश करेंगे। इस बार गाइनेकोलॉजिस्ट देंगी आपके सवालों के जवाब। हमारी एक्सपर्ट हैं, डॉ. अर्चना धवन बजाज

Aparajita हिन्दुस्तानSat, 22 June 2024 05:24 PM
हमें फॉलो करें

मैं चार माह की प्रेग्नेंट हूं। गर्मी बढ़ते ही मेरी असहजता भी बहुत ज्यादा बढ़ गई है। ऐसा क्यों हो रहा है? गर्भवती महिलाओं को क्या ज्यादा गर्मी लगती है? मुझे ऐसा क्या करना चाहिए कि गर्मी का नकारात्मक असर मेरे गर्भ में पल रहे शिशु पर न पड़े?

- आकांक्षा दीवान, लखनऊ

गर्भावस्था के दौरान एक महिला के शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं और इन्हीं हार्मोनल बदलावों के कारण उन्हें गर्मी ज्यादा लगती है। शरीर में प्रोजेस्टोरॉन हार्मोन की ज्यादा मात्रा के कारण कई बार गर्भवती महिला के शरीर का औसत तापमान भी बढ़ जाता है। गर्मी के मौसम में वातावरण के औसत तापमान में वृद्धि के कारण गर्भवती महिलाओं की परेशानी और बढ़ जाती है। इसकी वजह से वे ना सिर्फ असहज महसूस करती हैं बल्कि रोजमर्रा के काम करने में भी उन्हें परेशानी आती है। कई बार हीट स्ट्रोक आदि की स्थिति में गर्भ में पल रहे भू्रण पर भी नकारात्मक असर पड़ सकता है। गर्मी के मौसम इन परेशानियों से बचने के लिए कुछ बातों का ध्यान में रखना जरूरी है: ठंडे तरल पदार्थों का भरपूर मात्रा में सेवन करें, धूप में बिना वजह ना निकलें, निकलना हो तो छाता साथ लेकर जाएं, साथ में ठंडा पानी, नीबू पानी, नारियल पानी या ग्लूकॉन-डी वाला पानी लेकर जाएं, हल्के रंग के ढीले-ढाले और सूती कपड़े पहनें ताकि गर्मी कम लगें। खाने में फल, सलाद आदि को ज्यादा मात्रा में शामिल करें। तले-भुने खाद्य पदार्थों से दूर रहें। इन बातों को ध्यान में रखने गर्मी के मौसम में भी प्रेग्नेंसी के दिन आसानी से बीत जाएंगे।

• मेरी उम्र 25 साल है। मुझे हमेशा से पीरियड के दौरान दर्द होता रहा है। पर, मुझे पीरियड के दर्द के लिए दवा का सेवन ना करने की सलाह ही आसपास वालों से मिली है। क्या पीरियड दर्द के लिए दवा खाने से सच में किडनी की सेहत पर असर पड़ता है? अगर पीरियड के दर्द के लिए दवा ली भी जाए तो पीरियड के एक चक्र में कितने पेन किलर के सेवन को सुरक्षित माना जाता है? क्या मेफटल स्पास जैसी दवाएं पीरियड के दर्द के लिए बिना डॉक्टरी सलाह के भी ली जा सकती हैं?

- प्रियंका श्रीवास्तव, मेरठ

अगर आपको पीरियड के वक्त दर्द हो रहा है, तो यह लड़कियों को युवावस्था में होने वाला आम दर्द है। इस दर्द से निपटने के लिए गर्म पानी की सिंकाई, एक्यूप्रेशर, कैमेमाइल टी आदि की मदद लें। पीरियड शुरू होने से पहले बहुत ज्यादा चीनी, चॉकलेट व कैफीन आदि का सेवन ना करें। पीरियड के दौरान व्यायाम करके और गर्म तरल पदार्थों का सेवन करके इस दौरान होने वाले दर्द को मैनेज करने की कोशिश करें। अगर इन घरेलू नुस्खों से अगर आपके दर्द में आराम नहीं आ रहा है तो डॉक्टरी परामर्श लें। डॉक्टर अपनी जांच व जरूरी टेस्ट आदि के माध्यम से यह पता लगा सकते हैं कि पीरियड के दौरान होने वाला यह दर्द सामान्य है या फिर इसके लिए कोई गांठ आदि तो जिम्मेदार नहीं। पीरियड के दौरान होने वाले दर्द का सामना करने के लिए कभी-कभार दवा के सेवन में कोई बुराई नहीं है। पर, यह दवा हमेशा डॉक्टरी परामर्श के अनुरूप ही लेना चाहिए। मेफटल स्पास जैसी दवाएं भी डॉक्टरी परामर्श के मुताबिक कभी-कभार ली जा सकती हैं।

लेटेस्ट   Hindi News,  लोकसभा चुनाव 2024,  बॉलीवुड न्यूज,  बिजनेस न्यूज,  टेक,  ऑटो,  करियर ,और   राशिफल, पढ़ने के लिए Live Hindustan App डाउनलोड करें।

ऐप पर पढ़ें