Hindi Newsलाइफस्टाइल न्यूज़हेल्थAlka Yagnik speaks about her sensorineural hearing loss Know about this problem

अलका याग्निक को सुनाई देना हुआ बंद, क्या स्ट्रेस के कारण भी हो सकती है ये समस्या?

  • Sensorineural Hearing Loss: अलका याग्निक को सेंसरिनुरल हियरिंग लॉस का पता चला है। सिंगर को एक रेयर बीमारी हुई है। इस बीमारी की वजह से उन्होंने अपने सुनने की क्षमता को खो दिया है। जानिए क्या है ये समस्या और क्या स्ट्रेस के कारण ये समस्या हो सकती है?

Avantika Jain लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीTue, 18 June 2024 04:23 PM
हमें फॉलो करें

90 के दशक में बॉलीवुड को कई पॉपुलर और आइकॉनिक गानों को आवाज देने वाली सिंगर अलका याग्निक गंभीर सेंसरिनुरल हियरिंग लॉस का शिकार हो गई हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें एक वायरल अटैक के बाद ये समस्या हुई है। सिंगर ने सोशल मीडिया पर ये जानकारी शेयर करते हुए बताया कि अब वो सुन नहीं पा रही हैं। जानिए क्या है ये समस्या और क्या ये स्ट्रेस के कारण होती है।

सेंसोरिनुरल हियरिंग लॉस क्या है?

यह एक ऐसी स्थिति है जहां आंतरिक कान के तंत्रिका या कान को मस्तिष्क से जोड़ने वाली नस डैमेज हो जाती है, जिसकी वजह से व्यक्ति सुनने की क्षमता खो देता है।

क्या स्ट्रेस के कारण सेंसोरिनुरल हियरिंग लॉस हो सकता है?

दरअसल तनाव शरीर की शांत स्थिति में लौटने की क्षमता को रोक सकता है, जिससे संभावित रूप से दिल संबंधी बीमारियां, हाई ब्लड प्रेश या अन्य स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं जो ब्लड फ्लो में बाधा डालती हैं। यह, बदले में, आंतरिक कान की बाल कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकती है। कानों की कोशिकाएं कमजोर होती हैं, ऐसे में उन्हें स्थिर ब्लड फ्लो की जरूरत होती है। स्थिर ब्लड फ्लो के बिना कोशिकाएं डैमेज हो जाती हैं, जिससे आपकी सुनने की क्षमता पर असर होता है। लगातार तनाव के कारण धीरे-धीरे सुनने की क्षमता कम हो सकती है। वहीं कई बार अचानक सुनना बंद हो सकता है।

सेंसोरिनुरल हियरिंग लॉस का कारण

सेंसोरिनुरल हियरिंग लॉस कान के अंदर नर्व्स के डैमेज होने के कारण होता है। कभी-कभी हियरिंग लॉस दिमाग तक संकेतों को ले जाने वाली नसों के डैमेज होने के कारण होती है।

क्या सेंसोरिनुरल हियरिंग लॉस परमानेंट समस्या है?

सेंसोरिनुरल हियरिंग लॉस आमतौर पर परमानेंट समस्या होती है। एक बार जब कान के अंदर की बाल कोशिकाएं डैमेज हो जाती हैं या नष्ट हो जाती हैं, तो उनकी मरम्मत नहीं की जा सकती है। रिपोर्ट्स का कहना है कि सही ट्रीटमेंट से अधिकांश लोगों की सुनने की क्षमता में काफी सुधार हो सकता है।

लेटेस्ट   Hindi News,  लोकसभा चुनाव 2024,  बॉलीवुड न्यूज,  बिजनेस न्यूज,  टेक,  ऑटो,  करियर ,और   राशिफल, पढ़ने के लिए Live Hindustan App डाउनलोड करें।

ऐप पर पढ़ें