फोटो गैलरी

Hindi News लाइफस्टाइल फिटनेसShunya mundra: गाड़ी में बैठते ही होने लगती है उल्टियां, मोशन सिकनेस से बचने में फायदेमंद है शून्य मुद्रा

Shunya mundra: गाड़ी में बैठते ही होने लगती है उल्टियां, मोशन सिकनेस से बचने में फायदेमंद है शून्य मुद्रा

Motion Sickness:मोशन सिकनेस होने पर व्यक्ति को उल्टियां होती हैं और जी मिचलाता है। जिससे सफर का पूरा मजा किरकिरा हो जाता है। इस समस्या से निपटने के लिए शून्य मुद्रा फायदेमंद है।जानिए इसे करने का तरीका

Shunya mundra: गाड़ी में बैठते ही होने लगती है उल्टियां, मोशन सिकनेस से बचने में फायदेमंद है शून्य मुद्रा
Avantika Jainलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 29 Jan 2024 09:29 AM
ऐप पर पढ़ें

क्या आप भी उन लोगों में से हैं जो ट्रैवल तो करना चाहते हैं लेकिन इस बीच चक्कर उल्टी और बेचैनी से परेशान रहते हैं? इस समस्या से निपटने का सबसे आसान तरीका है योग। योग यानी ध्यान लगाने और व्यायाम का एक तरीका। योग की मदद से कई समस्याओं से निपटा जा सकता है। अगर आप घूमने फिरने का शौक रखते हैं लेकिन सफर के दौरान होने वाली उल्टी से डरते हैं तो इस समस्या से बचने के लिए शून्य मुद्र की प्रेक्टिस करें। 

मोशन सिकनेस में शून्य मुद्रा के फायदे
मोशन सिकनेस और मतली, उल्टी, कान में दर्द और कभी-कभी सिरदर्द यात्रा करते समय हो सकता है। शरीर में आकाश तत्व की अधिकता से कान में दर्द या मोशन सिकनेस जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इससे बचने में शून्य मुद्रा मददगार है। इस मुद्रा में तनाव बीच वाली उंगली को दिया जाता है और इस उंगली को आकाश की ओर रखते हैं, जो स्वर्ग का प्रतीक माना जाता है। रोजाना इस मुद्रा को करने से एकाग्रता बढ़ती है और इच्छा शक्ति भी मजबूत होती है। नियमित तौर पर इस मुद्रा को करने से शरीर से आलस कम होता है और हड्डियां मजबूत होती हैं। 

कैसे करें शून्य मुद्रा
- शून्य मुद्रा करने के लिए सबसे पहले एक दरी या मैट को किसी शांत जगह पर पद्मासन  में बैठ जाएं। कार या बस में इसे करना है तो बस में सामने बैठें।
- ध्यान रहे कि आपकी रीढ़ की हड्डी इस दौरान बिलकुल सीधी हो।
- बैठे-बैठे अपनी आंखों को बंद कर सकते हैं या खोल कर भी रख सकते हैं। 
- कुठ दी देर में अपने दोनों हाथों को अपने घुटनों पर रख लें और हथेलियां आकाश की तरफ होनी चाहिये। 
- बीच वाली उंगली को इस तरह से मोड़ें कि वह अंगूठे को दबाए।
बाकी उंगलियों को बिलकुल सीधा रखें।
- अब ध्यान लगाएं। ध्यान लगाते हुए अपनी सांसों को सामान्य बनाएं रखें।
- दोनों हाथों से इस मुद्रा को दोहराएं।

हंसते, छींकते या खांसते समय निकल जाता है यूरिन, जानिए निपटने के लिए क्या करें

डिस्क्लेमर: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीकों व दावों को केवल सुझाव के रूप में लें। इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट और सुझाव पर अमल करने से पहले डॉक्टर या एक्सपर्ट से सलाह लें।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें