Hindi Newsलाइफस्टाइल न्यूज़फिटनेसHow older people who eat less can fulfill their nutritional needs Is it okay to eat bread every day for breakfast

बढ़ती उम्र में कम खाने वाले कैसे पूरी करें पोषण संबंधी जरूरतें, क्या नाश्ते में रोजाना ब्रेड खाना ठीक है?

हम सबकेपास ढेरों सवाल होते हैं,बस नहीं होता जवाब पाने का विश्वसनीय स्रोत। यहां एक्सपर्ट की मदद से आपके सवालों के जवाब तलाशने की कोशिश करेंगे। इस बार आहार विशेषज्ञ कविता देवगन देंगी आपके सवालों के जवाब

Avantika Jain हिन्दुस्तान, नई दिल्लीSat, 11 May 2024 07:55 AM
हमें फॉलो करें

सवाल- क्या ब्रेड का नियमित रूप से सेवन सेहत के लिहाज से ठीक माना जा सकता है? नाश्ते में ब्रेड के विकल्प के रूप में और किन चीजों को अपनाया जा सकता है? - पूजा वर्मा, मेरठ

जवाब- नाश्ता न सिर्फ दिन का पहला भोजन होता है, बल्कि रात के बाद आठ से नौ घंटे के अंतराल के बाद हम कुछ खाते हैं। ऐसे में यह जरूरी है कि नाश्ते में खाने वाली चीजों का चुनाव  सोच-समझकर करें। विभिन्न अध्ययनों की मानें तो सुबह के नाश्ते में हम जो खाते हैं, उसका प्रभाव दिन भर हमारे खाद्य पदार्थों के चुनाव पर पड़ता है। हर सुबह पोषण से भरा नाश्ता खाएं और अपनी जिंदगी में सकारात्मक बदलाव लाएं। ऐसे में आप हर सुबह आलस में आकर ब्रेड ही खाने की गलती न करें।  इसके दो कारण हैं। पहला, ब्रेड रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट से बना है, जिसकी ज्यादा मात्रा सेहत के लिए ठीक नहीं है। दूसरा, ब्रेड में पोषण ज्यादा नहीं होता और तीसरा, ब्रेड प्रोसेस्ड फूड की श्रेणी में आता है, जो शरीर में एडिएटिव्स की मात्रा को बढ़ा सकता है, जो अच्छी बात नहीं है। सुबह का नाश्ता हर दिन एक जैसा नहीं, बल्कि अलग-अलग होना चाहिए। कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और कम मात्रा में वसा सुबह के नाश्ते का हिस्सा होना चाहिए। 
पोषक तत्वों से भरपूर सुबह के नाश्ते के लिए आप उसमें फल या सब्जियों के जूस को शामिल कर सकती हैं। संतरा, नीबू, अंगूर, तरबूज, टमाटर या आंवला का जूस आप सुबह के नाश्ते में पी सकती हैं। फाइबर के लिए रोटी , दलिया व ओट्स, ब्राउन राइस, फल व सब्जियां खाएं। प्रोटीन के लिए चीज, दही, अंडा और बीन्स आदि को नाश्ते का हिस्सा बनाएं। फल, दही, पोहा, उपमा, दलिया, इडली-सांबर, ढोकला व पैन केक आदि आपके सुबह के नाश्ते के अच्छे ऑप्शन साबित हो सकते हैं।

सवाल- मेरी मां की उम्र 70 साल है। धीरे-धीरे उनकी डाइट बहुत कम होती जा रही है। मुझे उनके खानपान में किन चीजों को शामिल करना चाहिए, ताकि उनकी पोषण संबंधी जरूरत कम डाइट में भी पूरी हो सके? - नमिता तिवारी, नई दिल्ली

जवाब- जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, मेटाबॉलिज्म धीमा होता चला जाता है, पर शरीर की पोषण संबंधी जरूरतों में किसी तरह का बदलाव नहीं आता। अपनी मां की पोषण संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए उन्हें कैलोरी से भरपूर खाद्य पदार्थों की जगह पोषक तत्वों से भरपूर चीजें खाने के लिए दें। कम फैट और ज्यादा फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ उन्हें न सिर्फ पोषण देगा, बल्कि कब्ज की शिकायत से भी दूर रखेगा। 
बढ़ती उम्र के साथ शरीर से कैल्शियम का क्षय तेजी से होने लगता है, जिसकी वजह से हड्डियां कमजोर होने लगती हैं। शरीर में कैल्शियम की कमी दूर करने के लिए उन्हें  डेयरी प्रोडक्ट्स जैसे दूध, चीज व पनीर आदि खाने को दें। साथ ही एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर खाद्य पदार्थों को भी उनकी डाइट का हिस्सा बनाएं। विटामिन-ए, सी, ई और सेलेनियम युक्त खाद्य पदार्थ शरीर में आ रहे बदलावों का सामना करने में मदद करेगा। पालक, स्ट्रॉबेरी, पपीता, टमाटर, गाजर और सेब जैसे खाद्य पदार्थों को उनके नियमित आहार का हिस्सा बनाएं। कोशिश करें कि वो हर दिन तीन बार सब्जी और दो बार फल जरूर खाएं। उम्र बढ़ने के साथ खाने को चबाने, तोड़ने और काटने की दांत की क्षमता भी प्रभावित होती है। बढ़ती उम्र में कम खाना खाने की एक प्रमुख वजह यह भी होती है। इस बात को समझें और अपनी मां को मुलायम खाना जैसे गीला चावल, उबली हुई सब्जियां, सूप, अनाजों की प्यूरी, खीर और दही आदि खाने के लिए अधिक दें। इस बात की तसदीक करें कि वो कम-कम मात्रा में खाना खाएं, पर बार-बार खाएं। बातचीत के माध्यम से उन्हें समझाने की कोशिश करें कि उम्र के इस पड़ाव पर पोषण उनके लिए क्यों ज्यादा जरूरी है।

ऐप पर पढ़ें