ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंडबॉयफ्रेंड को पीटा फिर महिला इंजीनियर से गैंगरेप, आरोपी मरते दम तक जेल में रहेंगे; कोर्ट का फैसला

बॉयफ्रेंड को पीटा फिर महिला इंजीनियर से गैंगरेप, आरोपी मरते दम तक जेल में रहेंगे; कोर्ट का फैसला

इन सभी को भारतीय दंड संहिता की धारा 395  (डकैती) के तहत दोषी मानते हुए अदालत ने 10 साल कठोर कारावास की सजा सुनाई है। इसके अलावा इन सभी पर 10,000-10,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

बॉयफ्रेंड को पीटा फिर महिला इंजीनियर से गैंगरेप, आरोपी मरते दम तक जेल में रहेंगे; कोर्ट का फैसला
Nishant Nandanपीटीआई,चाईबासाWed, 29 May 2024 06:53 PM
ऐप पर पढ़ें

झारखंड में एक महिला के साथ गैंगरेप के पांच दोषियों को अदालत ने उम्रकैद की सजा सुना दी है। राज्य के पश्चिमी सिंहभूम जिले में 26 साल की इस महिला के साथ भयानक तरीके से हैवानियत की गई थी। पुलिस के मुताबिक, 20 अक्टूबर, 2022 को पेश से सॉफ्टरवेयर इंजीनियर यह महिला अपने बॉयफ्रेंड के साथ मोटरसाइकिल पर जा रही थी। इसी दौरान चाइबासा के ओल्ड एयरोड्रम के पास 8 लोगों ने इनकी मोटरसाइकिल को रोका था। इन सभी ने महिला के बॉयफ्रेंड को पीटा और फिर महिला को सुनसान जगह पर ले जाकर उनके साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया था। 

एडिशनल सेशन जज-1 की अदालत ने सुरेन देवगम, प्रकाश देवगम, सोमा सिंकू, पुर्मी देवगम और शिवशंकर कर्जी को अंतिम सांस तक जेल में कैद रखने का फैसला सुनाया है। अदालत ने इन सभी को भारतीय दंड संहिता की धारा 376(D) (गैंगरेप) और धारा 377 (अप्राकृतिक रूप से यौन संबंध बनाना)के तहत दोषी पाया है। इन सभी को भारतीय दंड संहिता की धारा 395  (डकैती) के तहत दोषी मानते हुए अदालत ने 10 साल कठोर कारावास की सजा सुनाई है।

इसके अलावा इन्हें धारा 397 (जान लेने के इरादे से डकैती या लूटपाट को अंजाम देना) के तहत 7 साल कारावास की सजा भी सुनाई है।अदालत ने इसी के साथ प्रत्येक धारा के लिए प्रत्येक आरोपी पर 10,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया है। 

इस घिनौनी वारदात को अंजाम देने के बाद सभी आरोपी महिला को छोड़कर फरार हो गए थे। आरोपी महिला का पर्स और मोबाइल फोन भी ले गए थे। किसी तरह महिला अपने घर पहुंची थी और उसने अपने परिजनों को इसकी जानकारी दी थी। इसके बाद इस मामले में पुलिस के पास शिकायत दर्ज करवाई गई थी। इस केस में 4 नाबालिग भी आरोपी हैं और उनका मामला जुवेलनाइल जस्टिस बोर्ड में पेंडिंग है।