ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंडरास्ते में हुई पत्नी की मौत, शव घर पहुंचाकर वोट डालने गया पति; शफीक अहमद की खूब चर्चा

रास्ते में हुई पत्नी की मौत, शव घर पहुंचाकर वोट डालने गया पति; शफीक अहमद की खूब चर्चा

अचानक हुए इस हादसे से शफीक अहमद घबरा गए। पर उन्होंने हौसला नहीं खोया। अपनी पत्नी के शव को पहले घर पहुंचाया और वहां अपने परिजनों को पूरी जानकारी देकर बताकर मतदान करने की ठानी।

रास्ते में हुई पत्नी की मौत, शव घर पहुंचाकर वोट डालने गया पति; शफीक अहमद की खूब चर्चा
Devesh Mishraहिन्दुस्तान,रांचीSun, 26 May 2024 07:59 AM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव 2024 के लिए 25 मई को छठे चरण के तहत मतदान हुआ। अब केवल 1 जून की वोटिंग बची है। लोकतंत्र के इस महापर्व में लोग बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं। ऐसे में झारखंड से एक ऐसी खबर सामने आई है जो आपको हैरान कर देगी। दरअसल, शफीक अहमद नाम का एक व्यक्ति अपनी पत्नी के साथ वोट डालने जा रहा था। लेकिन बीच रास्ते में ही पत्नी की मौत हो गई। इसके बाद शफीक ने शव को वापस घर पहुंचाया और खुद वोट डालने के लिए निकल गया। इस घटना की पूरे इलाके में खूब चर्चा है। रांची की कांग्रेस प्रत्याशी भी शफीक से मिलने उसके घर पहुंचीं।

रास्ते में पत्नी की मौत

दरअसल, लोकसभा चुनाव के दौरान रांची में लोकतंत्र के महापर्व के प्रति समर्पण की मिसाल देखने को मिली। शहर के पुंदाग (दीपा टोली) स्थित फातिमा नगर निवासी शफीक अहमद पत्नी शाहिना परवीन फातिमा नगर स्थित ज्ञान सिंधु विद्या मंदिर स्थित बूथ संख्या-208 पर मतदान करने के लिए जा रहे थे। रास्ते में ही शफीक अहमद की पत्नी शाहिना परवीन गिर गईं और मौके पर ही उनका निधन हो गया।

वोट डालने पहुंचा पति

अचानक हुए इस हादसे से शफीक अहमद घबरा गए। पर उन्होंने हौसला नहीं खोया। अपनी पत्नी के शव को पहले घर पहुंचाया और वहां अपने परिजनों को पूरी जानकारी देकर बताकर मतदान करने की ठानी। बाद वह मतदान केंद्र पर जाकर अपना वोट डाला।

कांग्रेस उम्मीदवार ने घर जाकर मुलाकात की

इस घटना की जानकारी कांग्रेस प्रत्याशी यशस्विनी सहाय को मिली। इसके बाद वह फातिमा नगर जाकर शफीक अहमद और उनके परिजनों से मिलीं एवं शोक जताया। यशस्विनी सहाय ने कहा कि यह लोकतंत्र के महापर्व के प्रति समर्पण की मिसाल है। अहमद ने लोकतंत्र में चुनाव के महत्व को अहमियत देते हुए पहले मतदान करने का निर्णय लिया, यह अत्यंत सराहनीय है।