ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंडझामुमो ने विधायक चमरा लिंडा को सभी पदों से हटाया, गठबंधन के खिलाफ जाने पर ऐक्शन

झामुमो ने विधायक चमरा लिंडा को सभी पदों से हटाया, गठबंधन के खिलाफ जाने पर ऐक्शन

झारखंड मुक्ति मोर्चा ने बागियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है। विधायक चमरा लिंडा, लोबिन हेंब्रम के बाद पूर्व विधायक बसंत लौंगा के बागी तेवर दिखाते हुए संसदीय चुनाव में निर्दलीय रूप से ताल ठोका है।

झामुमो ने विधायक चमरा लिंडा को सभी पदों से हटाया, गठबंधन के खिलाफ जाने पर ऐक्शन
Devesh Mishraहिन्दुस्तान,रांचीWed, 08 May 2024 08:27 AM
ऐप पर पढ़ें

झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के बागी विधायक चमरा लिंडा को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया गया है। झामुमो के केंद्रीय अध्यक्ष शिबू सोरेन के निर्देशानुसार चमरा लिंडा को सभी पदों से पदमुक्त करते हुए पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया है। विशुनपुर से झामुमो विधायक चमरा लिंडा के विरुद्ध गठबंधन धर्म के विपरीत लोहरदगा से निर्दलीय चुनाव लड़ने पर कार्रवाई की गई है। दरअसल, इंडिया गठबंधन के तहत लोहरदगा सीट कांग्रेस के खाते में आई है। कांग्रेस ने यहां से सुखदेव भगत को टिकट दिया है। लेकिन लिंडा यहां से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं।

सत्तारूढ़ झारखंड मुक्ति मोर्चा ने बागियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है। विधायक चमरा लिंडा, लोबिन हेंब्रम के बाद पूर्व विधायक बसंत लौंगा के बागी तेवर दिखाते हुए संसदीय चुनाव में निर्दलीय रूप से ताल ठोका है। इससे पहले बसंत लौंगा को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से छह वर्षों के लिए निष्कासित किया गया था। अब बोरियो से झामुमो विधायक लोबिन हेम्ब्रम ने भी राजमहल संसदीय सीट से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में मंगलवार को नामांकन भर दिया है। पार्टी नेतृत्व के संज्ञान में यह मामला लाया गया है। लोबिन के विषय में भी विचार किया जा रहा है।

लौंगा और लिंडा की कार्रवाई पर सवाल
गठबंधन धर्म के विपरित आचरण करने पर झामुमो की ओर से बसंत लौंगा को छह वर्ष के लिए निष्कासन किया गया जबकि चमरा लिंडा के विरुद्ध निलंबन की कार्रवाई की गई है। झामुमो महासचिव विनोद पांडेय ने कहा कि प्रक्रिया के तहत चरणबद्ध तरीके से कार्रवाई की गई है।

लोहरदगा सीट से चमरा लिंडा ने निर्दलीय किया है नामांकन
चमरा लिंडा लोहरदगा संसदीय सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। हालांकि पार्टी ने उन्हें नाम वापसी की तिथि तक अपना नामांकन वापस लेने का मौका दिया था, लेकिन उन्होंने नाम वापस नहीं लिया। जिसके बाद पार्टी ने चमरा लिंडा पर कार्रवाई करते हुए सभी पदों से हटा दिया और पार्टी की सदयस्ता से भी निलंबित कर दिया।