अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

14 वेलेंटाइन 14 कहानियां: दो साल का प्यार दस साल से कम नहीं थे

प्रीति-रंजीत

प्रीति की आंखों में रंजीत दो साल से अपनी जीवन संगनी ढूंढता रहता था, उसे अपना बनाने के लिए रंजीत ने जात-पात की सभी बंधनों को तोड़ दिया। रंजीत ने प्रीति से प्रेम विवाह कर समाज के सामने उदाहरण पेश कर बताया कि प्यार में जात-पात देखा नहीं जाती। प्यार करने वाले कभी यह पूछ कर प्यार नहीं करते कि वो किस जाति से है। दोनों आज अपने दो बच्चों के साथ खुशी-खुशी अपना जीवन जी रहे हैं। दोनों अपने बच्चों के साथ इस वैलेंटाईन डे को यादगार बनाने की तैयारी में हैं। 
रंजीत ने बताते हैं कि वह उन दिनों एक निजी कंपनी में मैनेजर पद पर कार्यरत थे। तब उनकी एक महिलाकर्मी ने प्रीति कॉर को कंपनी में जॉब दिलाने के लिए लेकर आई। प्रीति को अपने दम पर अकाउंटेट के पद पर यह जॉब मिला। पहली नजर में रंजीत प्रीति को दिल दे बैठे थे। वो उससे बात करने के बहाने बार-बार उससे मिलते रहें। रंजीत बताते हैं कि शुरुआती दौर पर ऑफिस के अंदर बार-बार प्रीति से बात करने में थोड़ी झिझक होती थी। कुछ दिनों के बाद प्रीति रंजीत के घर के पास ही रहने लगी और दोनों एक साथ ऑफिस आने-जाने लगे। 

इस बीच दोनों ने अपने जीवन के कई पहलुओं को एक-दूसरे के सामने रखा। प्रीति बताती है कि उन दोनों का प्यार दो सालों का था, लेकिन यह दो साल दस सालों से भी ज्यादा लग रहा था। उन दोनों ने कई सपने बुने जिसे धीरे-धीरे सच कर रहे हैं। 

अंतरजातीय विवाह में परिवार का सहयोग नहीं मिला : 
अंतरजातीय विवाह में रंजीत और प्रीति के परिवार वालों ने शुरुआती दौर में अपनी रजामंदी देने से कतराते रहे। लेकिन इनदोनों ने भी अपने सपनों को सच करने की ठान ली थी। हालांकि दोनों परिवारों को इनके प्यार के आगे झुकना पड़ा और दोनों ने सितंबर 2013 को परिणय सूत्र में बंध गए। 

 


  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:valentine day ranchi love story