DA Image
13 अप्रैल, 2021|6:56|IST

अगली स्टोरी

थाना प्रभारी का गुस्सा ऐसा भड़का की फोर्स बुला ग्रामीणों को जमकर पीटा

सिमराढाब की महिला मुखिया मुनावती बैठा, पूर्व मुखिया रामू बैठा, पवन राम, विजय बैठा, पवन बैठा व रोजगार सेवक मनोज रजक के घरों में पुलिस ने घुसकर मारपीट की। इससे घबराए लोग जान बचाकर इधर-उधर भागने लगे। पूर्व मुखिया रामू बैठा ने थानेदार के सामने गांववालों के लिए हाथ जोड़कर माफी मांगी, तब थाना प्रभारी का गुस्सा शांत हुआ। घटना मंगलवार की है।

क्या है मामला: सिमराढाब गांव का भोला राय सब्जी लेने के लिए बाइक से प्रखंड मुख्यालय गया। पुलिस वाहन देखकर भोला राय वापस आने लगा। इतने में पुलिस की नजर उसपर पड़ गई। पुलिस ने भोला राय का पीछा किया। सिमराढाब गांव में लगे बैरियर के पास भोला राय बाइक छोड़कर भागने लगा। वह मुखिया मुनावती बैठा के घर पहुंच गया। मुखिया घर के बगल में थीं, जहां डीलर चावल का वितरण कर रहा था। पुलिस उक्त जगह पर पहुंच कर भोला राय के संबंध में पूछताछ करने लगी। राशन लेने आए कार्डधारियों को भीड़ नहीं लगाने की बात पर फटकार लगाई। 

कुछ देर बाद भारी संख्या में जवानों को लेकर थाना प्रभारी गांव पहुंचे और मारपीट शुरू कर दी। जान बचाकर लोग अगल-बगल के घरों में घुस गए। इसके बाद भी पुलिस का गुस्सा शांत नहीं हुआ। सिमराढाब की मुखिया मुनावती बैठा, पूर्व मुखिया रामू बैठा, रोजगार सेवक मनोज रजक, पवन राम, विजय बैठा व पवन बैठा के घरों में घुसकर  मारपीट की। पुलिस के तेवर देख पूर्व मुखिया रामू बैठा ने थानेदार से हाथ जोड़कर माफी मांगी, तब थाना प्रभारी का गुस्सा शांत हुआ।  देखें  

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:The anger of the police station incite such that the villagers were fiercely beaten by calling the force