ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडसाहिबगंज अवैध खनन मामले में आरोपियों को सुप्रीम झटका, सीबीआई जांच पर रोक से इनकार

साहिबगंज अवैध खनन मामले में आरोपियों को सुप्रीम झटका, सीबीआई जांच पर रोक से इनकार

साहिबगंज जिले में अवैध खनन के खिलाफ सीबीआई जांच के झारखंड हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट ने इनकार कर दिया है। मामले की अगली सुनवाई 15 दिसंबर को निर्धारित की है।

साहिबगंज अवैध खनन मामले में आरोपियों को सुप्रीम झटका, सीबीआई जांच पर रोक से इनकार
Abhishek Mishraहिन्दुस्तान,रांचीTue, 05 Dec 2023 09:23 AM
ऐप पर पढ़ें

साहिबगंज जिले में अवैध खनन के खिलाफ सीबीआई जांच के झारखंड हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट ने इनकार कर दिया है। सोमवार को जस्टिस संजीव खन्ना और जस्टिस एसवीएन भट्ट की खंडपीट ने मामले की अगली सुनवाई 15 दिसंबर को निर्धारित की है।

सीबीआई जांच पर रोक लगाने के लिए पंकज मिश्रा ने हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। झारखंड हाईकोर्ट ने विजय हांसदा की याचिका पर सुनवाई करते हुए 18 अगस्त 2023 को सीबीआई को प्रारंभिक जांच करने का निर्देश दिया था। विजय हांसदा को अदालत ने कहा था कि यदि प्रारंभिक जांच में सीबीआई को प्रतीत होता है कि इसकी जांच की जानी चाहिए, तो सीबीआई निदेशक इस पर आगे की कार्यवाही कर सकते हैं।

क्या है मामला

साहिबगंज के नींबू पहाड़ पर विजय हांसदा ने अवैध खनन किए जाने का ग्रामीणों के साथ विरोध किया था। लेकिन, अवैध खनन में शामिल लोगों ने अपने सरकारी अंगरक्षकों के सहारे सभी को वहां से भगा दिया। इसके बाद विजय हांसदा ने थाने में पंकज मिश्रा, विष्णु यादव, पवित्र यादव, राजेश यादव, बच्चू यादव, संजय यादव और सुभाष मंडल के खिलाफ लिखित शिकायत की थी। थाने में कार्रवाई नहीं होने पर विजय हांसदा ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर सीबीआई जांच का आग्रह किया था।

बाद में विजय हांसदा ने कोर्ट में एक आवेदन दायर कर अपनी मूल याचिका वापस लेने की अपील की। इसमें यह कहा गया कि उसने यह याचिका दायर नहीं की थी। जिस वक्त याचिका दायर की गयी थी, उस वक्त वह जेल में था। किसी ने उसके नाम पर यह याचिका दायर कर दी है।

इसलिए वह इसे वापस लेना चाहता है। अदालत ने याचिका वापस लेने का आवेदन रद्द कर दिया और सीबीआई को प्रारंभिक जांच का निर्देश दिया था।

बढ़ सकती है पंकज मिश्रा की मुश्किलें

सुप्रीम कोर्ट के रोक लगाने से इनकार के बाद इस मामले की सीबीआई जांच जारी रहेगी। पंकज मिश्रा के खिलाफ अवैध खनन मामले में पहले से ईडी की जांच चल रही हैा। सीएम के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा को जुलाई 2022 को ईडी ने गिरफ्तार किया था। जांच के दौरान ईडी ने पंकज मिश्रा, दाहू यादव और उनके सहयोगियों के 37 बैंक खातों में जमा 11.88 करोड़ रुपये भी जब्त किया है। वहीं ईडी ने साहिबगंज, बरहेट, राजमहल, मिर्जा चौकी और बरहरवा में 19 स्थानों पर तलाशी ली थी। इस दौरान कई दस्तावेज और 5.34 करोड़ रुपये नगद जब्त किए गए। पंकज मिश्रा अभी जेल में है और ईडी और हाईकोर्ट से उसकी जमानत की अर्जी खारिज हो चुकी है।

थाने में कार्रवाई नहीं होने पर विजय हांसदा ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर सीबीआई जांच का आग्रह किया था।

याचिका वापस लेने का आवेदन दिया

बाद में विजय हांसदा ने कोर्ट में एक आवेदन दायर कर अपनी मूल याचिका वापस लेने की अपील की। इसमें यह कहा गया कि उसने यह याचिका दायर नहीं की थी। जिस वक्त याचिका दायर की गयी थी, उस वक्त वह जेल में था। किसी ने उसके नाम पर यह याचिका दायर कर दी है। इसलिए वह इसे वापस लेना चाहता है। अदालत ने याचिका वापस लेने का आवेदन रद्द कर दिया और सीबीआई को प्रारंभिक जांच का निर्देश दिया था।

बढ़ सकती है पंकज मिश्रा की मुश्किलें

सुप्रीम कोर्ट के रोक लगाने से इनकार के बाद इस मामले की सीबीआई जांच जारी रहेगी। पंकज मिश्रा के खिलाफ अवैध खनन मामले में पहले से ईडी की जांच चल रही हैा। सीएम के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा को जुलाई 2022 को ईडी ने गिरफ्तार किया था। जांच के दौरान ईडी ने पंकज मिश्रा, दाहू यादव और उनके सहयोगियों के 37 बैंक खातों में जमा 11.88 करोड़ रुपये भी जब्त किया है। वहीं ईडी ने साहिबगंज, बरहेट, राजमहल, मिर्जा चौकी और बरहरवा में 19 स्थानों पर तलाशी ली थी। इस दौरान कई दस्तावेज और 5.34 करोड़ रुपये नगद जब्त किए गए। पंकज मिश्रा अभी जेल में है और ईडी और हाईकोर्ट से उसकी जमानत की अर्जी खारिज हो चुकी है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें