ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडझारखंड की 45% जनसंख्या में विकसित हुई कोरोना की एंटीबॉडी, 55% जनसंख्या को खतरा: सीरो सर्वे

झारखंड की 45% जनसंख्या में विकसित हुई कोरोना की एंटीबॉडी, 55% जनसंख्या को खतरा: सीरो सर्वे

झारखंड के 10 जिलों में किए गए एक सीरो सर्वे में पता चला है कि 45 प्रतिशत आबादी पहले ही सार्स कोव-2 वायरस से संक्रमित हो चुकी है। सार्स कोव-2 वायरस कोविड-19 का कारण है और इसकी वजह से शरीर में...

झारखंड की 45% जनसंख्या में विकसित हुई कोरोना की एंटीबॉडी, 55% जनसंख्या को खतरा: सीरो सर्वे
हिन्दुस्तान टीम,रांचीWed, 31 Mar 2021 09:53 PM
ऐप पर पढ़ें

झारखंड के 10 जिलों में किए गए एक सीरो सर्वे में पता चला है कि 45 प्रतिशत आबादी पहले ही सार्स कोव-2 वायरस से संक्रमित हो चुकी है। सार्स कोव-2 वायरस कोविड-19 का कारण है और इसकी वजह से शरीर में एंटीबॉडीज बनती हैं। सीरो सर्वेक्षण के दूसरे चरण में देखा गया है कि शेष 55 प्रतिशत आबादी बीमारी की चपेट में आ सकती है या उनमें वायरस से संक्रमित होने का खतरा बना हुआ है।

सर्वेक्षण रिपोर्ट की व्याख्या में यह भी कहा गया है कि एंटीबॉडीज के समय के साथ खत्म होने की संभावना है। झारखंड ने 10 से 26 फरवरी के बीच बोकारो, धनबाद, दुमका, पूर्वी सिंहभूम, गढ़वा, हजारीबाग, खूंटी, पलामू, रांची और पश्चिमी सिंहभूम में सीरो सर्वेक्षण (सार्स कोव-2 के लिए एंटीबॉडी के इन-विट्रो गुणात्मक का पता लगाने) करवाया था। 

बुधवार को जारी स्वास्थ्य विभाग की प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, समुदाय (कम्युनिटी) और उच्च जोखिम वाले समूहों में से 3965 नमूने एकत्र किए थे। इन 3965 नमूनों में से 1774 कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे। यह एकत्रित नमूनों का 44.74 प्रतिशत हिस्सा है। 1774 नमूनों में से 833 समुदाय से और 941 उच्च जोखिम वाले समूह से रिपोर्ट किए गए हैं।

यह सर्वेक्षण अन्य चीजों के साथ-साथ राज्य में जल्द से जल्द कोविड-19 टीकाकरण कवरेज को बढ़ाने की सिफारिश करता है ताकि जनसंख्या प्रतिरक्षण की तेज दर को प्राप्त किया जा सके। इसके अलावा ये रिपोर्ट कोविड-19 से संबंधित दिशा-निर्देशों का सही तरीके से पालन करने की तरफ ध्यान केंद्रित करती है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें