ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडसाहिबगंज खनन घोटाले में डबल शिकंजा, CBI को सबूत सौंपेगी ED; आरोपियों के खिलाफ होगा ये ऐक्शन

साहिबगंज खनन घोटाले में डबल शिकंजा, CBI को सबूत सौंपेगी ED; आरोपियों के खिलाफ होगा ये ऐक्शन

साहिबगंज डीसी रामनिवास यादव के कार्यकाल में जिले में 23.26 करोड़ क्यूबिक फीट का अवैध खनन किया गया। ईडी जांच में इतने बड़े पैमानें पर अवैध खनन से कुल 1250 करोड़ का नुकसान होने का दावा किया गया है।

साहिबगंज खनन घोटाले में डबल शिकंजा, CBI को सबूत सौंपेगी ED; आरोपियों के खिलाफ होगा ये ऐक्शन
Abhishek Mishraअखिलेश सिंह,रांचीThu, 11 Jan 2024 07:51 AM
ऐप पर पढ़ें

साहिबगंज में 1250 करोड़ रुपये के अवैध खनन व ईडी के गवाहों को प्रभावित करने से जुड़े मामले में ईडी जांच में आए तथ्यों को सीबीआई के साथ साझा करेगी। 3 जनवरी को इस केस में ईडी ने साहिबगंज के डीसी रामनिवास यादव, सीएम के सलाहकार अभिषेक प्रसाद पिंटू समेत अन्य लोगों के ठिकानों पर छापेमारी की थी।

इस मामले में ईडी को साहिबगंज डीसी रामनिवास यादव के खिलाफ जो साक्ष्य मिले हैं, उसकी जानकारी सीबीआई को सौंपी जाएगी। जानकारी के मुताबिक, ईडी पीएमएलए 66 के तहत आईएएस रामनिवास यादव के खिलाफ जांच में आए तथ्यों से सीबीआई को अवगत कराएगी, ताकि सीबीआई आगे की कार्रवाई कर सके। अवैध खनन, मनरेगा घोटाला और ठेकों के जरिए मनी लाउंड्रिंग से जुड़े मामलों में पूर्व में ईडी ने 12 पत्र राज्य सरकार को भेजे थे। 

हालांकि राज्य सरकार ने ईडी के उन पत्रों के आधार पर अबतक कोई कार्रवाई नहीं की है। अवैध खनन व गवाह को प्रभावित करने से जुड़ा मामला राज्य सरकार में दर्ज नहीं है, इस मामले में सीबीआई में दर्ज केस के आधार पर ईडी ने मनी लाउंड्रिंग का केस दर्ज किया था।

कैबिनेट फैसले के बाद डीसी रामनिवास की पेशी पर संशय

साहिबगंज डीसी रामनिवास यादव के कार्यकाल में जिले में 23.26 करोड़ क्यूबिक फीट का अवैध खनन किया गया। ईडी की जांच में यह बात सामने आयी है कि इतने बड़े पैमानें पर अवैध खनन से कुल 1250 करोड़ का नुकसान हुआ।

सीबीआई के द्वारा केस दर्ज किए जाने के बाद 3 जनवरी को साहिबगंज डीसी के आवास पर छापेमारी के दौरान उनके आवासीय कार्यालय से ईडी को लिफाफे में 7.25 लाख रुपये मिले थे। वहीं 9 एमएम बोर की 19 गोली, प्वाइंट 380 बोर की दो गोली व प्वाइंट 45 एमएम के पांच खाली कारतूस बरामद किये गये थे। मिली जानकारी के अनुसार पीएमएलए 66 के तहत इन सूचनाओं को सीबीआई से शेयर किया जाएगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें