DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › अब फिल्म देखते या गाना सुनते हुए करवा सकते हैं एमआरआई, नहीं होगी घबराहट
झारखंड

अब फिल्म देखते या गाना सुनते हुए करवा सकते हैं एमआरआई, नहीं होगी घबराहट

रांची हिन्दुस्तान टीमPublished By: Yogesh Yadav
Thu, 04 Mar 2021 03:03 PM
अब फिल्म देखते या गाना सुनते हुए करवा सकते हैं एमआरआई, नहीं होगी घबराहट

पैथोलॉजी चिकित्सा क्षेत्र के पुरोधा रहे डॉ. जे शरण की जन्मशती पर अब झारखंड के मरीजों को बेहतर और विश्वस्तरीय रेडियोलॉजी चिकित्सा सुविधा एक छत के नीचे उपलब्ध होगी। राजधानी के प्रख्यात डॉ. जे शरण पैथोलॉजी सेंटर की ओर से डॉ. जे शरण स्कैनिंग सेंटर का शुभारंभ किया जा रहा है। सेंटर में  रेडियोलॉजी जांच, जिसमें एमआरआई, सिटी स्कैन, अल्ट्रासाउंड, एक्सरे आदि की अत्याधुनिक सुविधा उपलब्ध होगी। चार फरवरी, 2021 गुरुवार को  डॉ. जे शरण स्कैनिंग सेंटर का उद्घाटन केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने किया। सेंटर में लगाई गई अत्याधुनकि थ्री टेस्ला एमआरआई मशीन से पहली बार कार्डियक एमआरआई की सुविधा रांची में उपलब्ध होगी। 

डॉ. जे शरण स्कैनिंग सेंटर के डॉ. राकेश शरण, डॉ. नितिन शरण, डॉक्टर निशांत शरण  और विनीता शरण ने बताया कि यहां अब तक का अत्याधुनिक थ्री टेस्ला एमआरआई मशीन लगाई गई है। इस मशीन में मरीज के कंफर्ट का विशेष ध्यान रखा गया है। मशीन की खासियत ‘वाइड बोर’ और ‘इन बोर एक्सपीरियंस’ है।   कई बार छोटे बोर (ब्यास) में जाने से मरीज घबराते हैं और जरुरी होने पर भी एमआरआई नहीं करवाते।  'वाइड बोर सिस्टम' में गाएंट्री का व्यास 70 सेंटीमीटर कर दिया गया है, जिससे खुलेपन का अहसास होता है और इससे मरीज को घबराहट नहीं होती। वहीं सामान्य एमआरआई मशीनों में व्यास केवल 60 सेंटीमीटर होता है, जिसमें मरीजों को घुटन महसूस होती थी। सेंटर में पहली बार कार्डियक एमआरआई की भी सुविधा मिलेगी। 

मशीन की तेज आवाज नहीं करेगी परेशान

एमआरआई के दौरान थ्रीडी चश्मे के जरिए मरीज अपना मनपसंद वीडियो, गाना या सिनरी देख सकते हैं।  इस तरह मरीज का 'इन बोर एक्सपीरियंस' बहुत अच्छा रहता है और एमआरआई का बेहतर परिणाम मिलता है। अब तक की एमआरआई तकनीकी में आधे घंटे से ज्यादा का समय लग जाता है, जबकि नई तकनीक से पांच मिनट से पंद्रह मिनट के बीच एमआरआई हो जाता है।  डॉ. शरण ने बताया कि सामान्य मशीन से एमआरआई कराने पर मरीजों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है, जैसे घुटन, घबराहट तथा डर साथ ही मशीन की तेज आवाज भी परेशान करती है। लेकिन डिजिटल तकनीक वाली एमआरआई मशीन के लिए खास तौर पर इन-बोर तकनीक के साथ सेंटर तैयार किया है।  एमआरआई के दौरान मरीज मूवी, गाने और कार्टून आदि के माध्यम से अपना मनोरंजन भी कर सकते हैं। डिजिटल व 3D होने के कारण यह क्वालिटी तथा डाइग्नोसिस के लिए सर्वोत्तम है।

128 स्लाइस की पहली सिटी स्कैन मशीन

सेंटर में 128 स्लाइस की सीटी स्कैन मशीन लगाई जा रही है जो कि पूरे क्षेत्र में सबसे आधुनिक मशीन है। मशीन की खासियत है कि कुछ ही मिनटों में मरीज का सिटी स्कैन हो सकेगा। मशीन में कार्डियक सिटी की सु‌विधा होगी। सबसे खास बात है कि मशीन का रेडिएशन बिल्कुल नगण्य है ताकि मरीजों को को परेशानी न हो। इसके अलावा सेंटर में जल्द फोर डी हाई इंड अल्ट्रासाउंड विद कलर डॉपलर मशीन की सुविधा होगी। इसके अलावा ईसीजी, डिजीटल एक्स-रे आदि की भी सुविधा सेंटर में उपलब्ध कराई गई है।

संबंधित खबरें