DA Image
6 जून, 2020|1:57|IST

अगली स्टोरी

क्वारंटाइन सेंटरों में भी बढ़ रहा संक्रमण का खतरा, जाने कैसे

दूसरे प्रदेशों से लौटने वाले प्रवासियों की तादाद बढ़ने के साथ ही राज्य में पॉजिटिव मरीजों की संख्या में भी इजाफा तेज हो गया है। इसके साथ ही क्वारंटाइन सेंटरों में सभी संदिग्धों की जांच न हो पाने कारण वहां भी संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है।

पिछले पांच मई को राज्य के कोरंटाइन सेंटरों में महज 8373 संदिग्ध भर्ती थे और राज्यभर में 15064 सैंपलों की जांच हो चुकी थी। उनमें 125 पॉजिटिव मिले थे। लेकिन अब रेड जोन और हॉटस्पॉट वाले राज्यों से आने वाले संदिग्धों की बड़ी संख्या के कारण सभी की जांच नहीं हो पा रही है। 21 मई को 71123 संदिग्ध कोरंटाइन सेंटरों में भर्ती थे, लेकिन इनमें से 29187 की जांच नहीं हो सकी थी।

जांच की रफ्तार में इजाफा : बीते एक माह में जांच की रफ्तार पांच गुना बढ़ चुकी है। पहले जहां हर दिन 400 से 500 जांच हो रही थी वही अब रोजाना 2200 से 2300 हो रही है। बावजूद  प्रवासियों की भीड़ के आगे यह कम दिख रही है। नतीजा, कोरंटाइन सेंटरों में भर्ती इन संदिग्धों से संक्रमण का खतरा  बढ़ रहा है।

 28615 सैंपलों की जांच में मिले 200 पॉजिटिव : पांच मई तक राज्य में 15064 सैंपलों की जांच हुई थी। जिसमें 125 संक्रमित मिले थे।   पांच मई से 22 मई के बीच 28615  सैंपलों की जांच में 200 संक्रमित मिले। जिसमें 165 प्रवासी हैं। 

 क्वारंटाइन सेंटर में 15 दिन में नौ गुना बढ़े संदिग्ध : बीते15 दिनों में कोरंटाइन सेंटरों में भर्ती संदिग्धों की संख्या में नौ गुना इजाफा हुआ। सात मई को सेंटरों में 8016 लोग थे जो 21 मई को 71123 हो गए। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Quarantine centers are also increasing the risk of infection know how