DA Image
27 अक्तूबर, 2020|1:18|IST

अगली स्टोरी

झारखंड में पुलिस सामुदायिक किचन बंद 

झारखंड पुलिस द्वारा चलाए जा रहे सभी सामुदायिक किचन बुधवार को बंद हो गए। राज्य पुलिस मुख्यालय ने सभी जिलों के एसपी को इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है। 
    सभी जिलों के एसपी को पुलिस मुख्यालय की तरफ से एडीजी मुरारीलाल मीणा के द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि पुलिस के सामुदायिक किचन खोले रखने की अब कोई जरूरत नहीं है। इसलिए अब सारे किचन बंद कर दिए जाएं। आदेश में कहा गया है कि प्रत्येक सामुदायिक किचन में हुए खर्च का पूरा ब्योरा जिलों के उपायुक्त के जरिए पुलिस मुख्यालय को भी जमा कराएं। प्रत्येक सामुदायिक किचन के संचालन के लिए कितना अनाज और कितना राशन सरकार से मिला इसका ऑडिट होगा।

प्रवासियों के लिए मददगार साबित हुआ यह किचन : वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के देश में प्रसार के साथ ही लॉकडाउन बढ़ने के बाद पुलिस का सामुदायिक किचन प्रवासियों के लिए काफी मददगार साबित हुआ। परिवहन बंद होने से जब प्रवासी पैदल ही विभिन्न राज्यों से अपने घरों को लौट रहे थे तब डीजीपी एमवी राव की पहल पर पुलिस के सामुदायिक किचनों को नेशनल हाईवे पर भी शिफ्ट कराया गया था। ऐसे में राहगीरों को वहां खाना खिलाया जाता था। लेकिन, अनलॉक में सामुदायिक किचन पर निर्भरता कम हुई है, ऐसे में पुलिस मुख्यालय ने सभी जिलों में चल रहे सामुदायिक किचन केंद्रों को बंद करने का फैसला लिया है। 

मुख्यमंत्री के आदेश पर चल रही थी रसोई : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के आदेश पर 27 मार्च से राज्य के सभी जिलों के प्रमुख थाना और पिकेटों में गरीबों, मजदूरों के लिए सामुदायिक किचन खोले गए थे। लॉकडाउन के दौरान पुलिस द्वारा खोले गए 342 सामुदायिक किचन में 30 लाख से अधिक लोगों को खाना खिलाया गया। प्रत्येक दिन पुलिस मुख्यालय के द्वारा इस बात की जानकारी भी ली जा रही थी कि पुलिस ने कितने लोगों को खाना खिलाया। रसोई से प्रवासियों को बहुत सुविधा मिली। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Police community kitchen closed in Jharkhand