DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देश के 25 खूंखार नक्सलियों के खात्मे के लिए ऑपरेशन प्रहार शुरू

माओवादियों के खात्मे को लेकर पुलिस ने अब तक का सबसे बड़ा ऑपरेशन शुरू कर दिया है, जिसका नाम प्रहार दिया गया है। इसे सफलतापूर्वक अंजाम तक पहुंचाने की जिम्मेदारी झारखंड, बंगाल, बिहार, छत्तीसगढ़, आंध्र प्रदेश एवं महाराष्ट्र पुलिस को मिली है। वहीं, इन्हें सहयोग सीआरपीएफ, एसएसबी, बीएसएफ और आईटीबीपी के जवान करेंगे। 

सूची में छत्तीसगढ़ के ज्यादा नक्सली, महाराष्ट्र से एक भी नहीं : 
ऑपरेशन प्रहार में पुलिस के टारगेट में देश के नामी गिरामी 25 नक्सली लीडर होंगे। इनकी सूची तैयार कर प्रभावित राज्य मुख्यालयों को भेजी जा चुकी है। सूची में झारखंड-बिहार एवं प. बंगाल में सक्रिय पांच बड़े माओवादियों यथा सुधाकरण, असीम मंडल उर्फ तिमिर पाल उर्फ आकाश, अजय महतो, प्रशांत बोस उर्फ किशन दा और राम प्रशाद मार्डी उर्फ सचिन के नाम शामिल हैं। सबसे ज्यादा नाम छत्तीसगढ़ से है, जबकि सूची में महाराष्ट्र के किसी नक्सली का नाम शामिल नहीं है।

अरविंद जी के मरने के बाद सुधाकरण को मिली है कमान : 
सुधाकरण आंध्र प्रदेश का रहने वाला है और अपनी पत्नी नीलिमा उर्फ माधवी के साथ वर्ष 2016 से झारखंड के बुढ़ापहाड़ में सक्रिय है। सेंट्रल मिलिट्री कमिशन आफ सीपीआई (माओवादी) नेता देवकुमार सिंह उर्फ अरविंद जी के निधन के बाद सुधाकरण को झारखंड-बिहार का हेड बनाया गया है। 

बंगाल कमेटी का सचिव और एक करोड़ का इनामी है आकाश : 
असीम मंडल उर्फ तिमिर पाल उर्फ आकाश जी उर्फ राकेश जी ने झारखंड एवं बंगाल के सीमावर्ती पहाड़ियों को अपना ठिकाना बनाया है। इसके ऊपर सरकार ने एक करोड़ का इनाम रखा है। 24 जून से 11 जुलाई के बीच पुलिस के साथ तीन बार मुठभेड़ हुई, जिसमें सीआरपीएफ की 193वीं बटालियन का एक जवान भी शहीद हुआ था। 

धनबाद एवं आसपास के क्षेत्र में सक्रिय है गिरिडीह का अजय महतो : 
ऑपरेशन प्रहार के लिए तैयार की गई लिस्ट में झारखंड से तीसरा नाम अजय महतो का है। अजय गिरिडीह के तीसरी क्षेत्र का रहने वाला है और धनबाद एवं आसपास इलाके में सक्रिय है। इसी के प्रभाव वाले क्षेत्र में वर्षों पहले राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी के पुत्र सहित कई लोगों की हत्या नक्सलियों ने कर दी थी।

प्रशांत बोस पर है एक करोड़ का इनाम : 

प्रशांत बोस उर्फ किशन दा को सारंडा की कमान मिली थी, जहां से वह हर गितिविधियों को अंजाम दे रहा था। किशन दा पर झारखंड पुलिस ने एक करोड़ का इनाम घोषित कर रखा था।
दामपाड़ा व अन्य इलाकों में सक्रिय है राम प्रसाद का दस्ता : राम प्रसाद मार्डी उर्फ सचिन का दस्ता पूर्वी सिंहभूम के दामपाड़ा व अन्य इलाकों में सक्रिय है। इसपर भी झारखंड सरकार ने 15 लाख का इनाम घोषित रखा है।

मारे जायेंगे सभी बड़े नक्सली : पुलिस
ऑपरेशन प्रहार के बाबत पूछे जाने पर एक पुलिस अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि नक्सलियों के साथ आर-पार की लड़ाई शुरू हो चुकी है। 25 बड़े नाम सूची में हैं। मुख्यधारा में आने का बहुत मौका दिया गया। अब कोई मौका नहीं मिलेगा, एक-एक कर जल्द सभी मारे जाएंगे। 


 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Operation prahar started in jharkhand