DA Image
9 सितम्बर, 2020|1:57|IST

अगली स्टोरी

झारखंड में 25 फीसदी ही अभिभावक चाहते हैं स्कूल खुले, अन्य की भी राय जान लें

                             25

राज्य में हाई और प्लस टू स्कूल खोलने के लिए अभिभावकों ने सरकार के निर्णय के साथ चलने का सुझाव दिया है। करीब 25 से 30 फ़ीसदी अभिभावक स्कूल खोलने के पक्ष में हैं, जबकि बाकी वैक्सीन आने के बाद और  सरकार के निर्णय के अनुसार ही स्कूल खुलवाना चाहते हैं। 

स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग ने नौवीं से 12वीं में पढ़ने वाले छात्र छात्राओं के अभिभावकों से 31 अगस्त तक सुझाव मांगा। सोमवार की देर शाम तक 11,400 अभिभावकों ने सुझाव दे दिए हैं। स्कूल खोलने को लेकर अभिभावकों के मिले-जुले सुझाव आए हैं। अभिभावकों ने सबसे ज्यादा सुझाव सरकार के निर्णय के अनुसार स्कूल खोलने और कोरोना की रोकथाम के लिए वैक्सीन उपलब्ध होने के बाद स्कूल खोलने के लिए दिए हैं। इसके अलावा सितंबर, अक्टूबर, नवंबर, दिसंबर में स्कूल खोलने से लेकर 21 दिनों तक जिला, राज्य या देश में कोरोना संक्रमण कोई नया मामला नहीं आने पर स्कूल खोलने के लिए भी अलग-अलग सुझाव आए हैं। स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग 31 अगस्त की रात 12 बजे तक आने वाले सुझाव लेगा। उसके बाद उसे कंपाइल्ड कर एक सितंबर को जारी किया जाएगा। 

 80 फ़ीसदी से अधिक अभिभावकों ने  मैट्रिक और इंटरमीडिएट का पाठ्यक्रम छोटा करने की राय दी है। अभिभावकों ने 30 से 50 फ़ीसदी पाठ्यक्रम छोटा करने को कहा है, ताकि परीक्षार्थियों को समस्या ना हो। इसके अलावा अभिभावकों ने कंप्यूटर और लैपटॉप नहीं होने और सिर्फ स्मार्टफोन की सुविधा होने की बात कही है। टेलीविजन भी अभिभावकों के पास कम है, जबकि करीब 2500 अभिभावकों ने लगातार बिजली नहीं रहने की भी शिकायत की है। वहीं करीब 1300 अभिभावक ऐसे हैं जिनके पास इनमें से कोई सुविधा नहीं है।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Only 25 percent of parents in Jharkhand want schools open know the opinion of others