On the journey of cycling to India Sashashti spoken in Ranchi aims to work on education - साइकिल से भारत भ्रमण पर शाश्वती, रांची में बोलीं बालिका शिक्षा पर काम करना है लक्ष्य DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साइकिल से भारत भ्रमण पर शाश्वती, रांची में बोलीं बालिका शिक्षा पर काम करना है लक्ष्य 

महिलाओं को सशक्त और ऊर्जान्वित बनाने के लिए महाराष्ट्र की बेटी शाश्वती भोसले साइकिल से भारत भ्रमण पर निकली हैं। रविवार शाम को वह रांची पहुंची। उन्होंने अपने अच्छे करियर को छोड़कर लड़कियों को मोटिवेट करने की ठानी है। 

त्रिपुरा से उन्होंने साइकिल यात्रा की शुरुआत छह मार्च को की थी। अभी तक मिजोरम, मणिपुर, नगालैंड, असम, सिक्किम, मेघालय, पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी और बिहार होते हुए रविवार की शाम रांची पहुंची।  यहां से वह सोमवार की सुबह कोलकाता रवाना होंगी। 

हिन्दुस्तान से बातचीत में शाश्वती ने बताया कि मुझे घूमना बेहद पसंद है। जब मैं घूमने के लिए निकलने वाली थी, तब सोचा कि बिना किसी उद्देश्य के घूमने का अर्थ नहीं है। फिर मेरे मन में यह ख्याल आया कि क्यों न साइकिल से घूमा जाए। देश के विभिन्न इलाकों में जाकर लड़कियों की समस्याओं को सुना जाए और उसके समाधान की कोशिश की जाए।

शिक्षा का अलख जगाना चाहती है शाश्वती
शाश्वती ने उत्तर-पूर्व भारत के कई राज्यों में घूमीं और वहां के स्कूलों और विभिन्न बस्तियों में जाकर युवतियों और महिलाओं से मिलीं। कहती हैं कि लड़कियों से बात करने के बाद मुझे एहसास हुआ कि शिक्षा के बिना किसी भी समस्या का समाधान नहीं हो सकता। इसलिए सोचा कि आगे चलकर शिक्षा क्षेत्र में काम करूंगी।

खेल विभाग ने की मदद 
रांची पहुंचने से पहले शाश्वती की साइकिल टूट गयी थी। बाद में उन्होंने उसे ठीक कराया, लेकिन तबतक रात हो चुकी थी। हिन्दुस्तान की पहल पर खेल विभाग ने रात्रि विश्राम करने और खाने-पीने की व्यवस्था की। वह बरियातू हॉकी सेंटर के हॉस्टल में रात में ठहरीं।  

अच्छा करियर छोड़ा
शाश्वती ने ट्रैवलिंग में डिप्लोमा कोर्स किया है। थाई एयरवेज, टीसीएस समेत कई बड़ी कंपनियों में छह साल तक काम करने के बाद छोड़ दिया। वह कनाडा जाकर काम करना चाहती थीं, लेकिन अब वह देश में रहकर ही लोगों की मदद करना चाहती हैं। शाश्वती के पिता और मां एलआईसी में एजेंट हैं। पिता एक होटल भी चलाते हैं। बड़ी बहन पत्रकार हैं और एक छोटा भाई अभी पढ़ रहा है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:On the journey of cycling to India Sashashti spoken in Ranchi aims to work on education