ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडनींबू पहाड़ अवैध खनन की CBI जांच पर रोक बरकरार, 16 फरवरी को अगली सुनवाई; HC के फैसले की वजह क्या

नींबू पहाड़ अवैध खनन की CBI जांच पर रोक बरकरार, 16 फरवरी को अगली सुनवाई; HC के फैसले की वजह क्या

नींबू पहाड़ अवैध खनन मामले में सीबीआई जांच पर झारखंड हाईकोर्ट ने 16 फरवरी तक रोक बढ़ा दी है। कोर्ट ने जांच पर रोक बढ़ाते हुए सरकार को जवाब दाखिल करने को कहा। अब 16 फरवरी को सुनवाई होगी।

नींबू पहाड़ अवैध खनन की CBI जांच पर रोक बरकरार, 16 फरवरी को अगली सुनवाई; HC के फैसले की वजह क्या
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,रांचीSat, 10 Feb 2024 09:28 AM
ऐप पर पढ़ें

साहिबगंज के नींबू पहाड़ अवैध खनन मामले में सीबीआई जांच पर हाईकोर्ट ने 16 फरवरी तक रोक बढ़ा दी है। शुक्रवार को राज्य सरकार की याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की अदालत ने जांच पर रोक बढ़ाते हुए सरकार को जवाब दाखिल करने को कहा। अगली सुनवाई 16 फरवरी को होगी। सीबीआई ने मामले में शुक्रवार को शपथ पत्र दाखिल किया। इस पर सरकार ने सीबीआई के प्रतियुत्तर पर अपना जवाब दाखिल करने के लिए समय मांगा। इस पर अदालत ने सुनवाई की तिथि 16 फरवरी तय कर दी।

सरकार ने याचिका में कहा है कि हाईकोर्ट ने 18 अगस्त 2023 को सीबीआई को नींबू पहाड़ क्षेत्र में हुए अवैध खनन की प्रारंभिक जांच करने का आदेश दिया था। लेकिन जांच शुरू करने के पहले सीबीआई ने राज्य सरकार से अनुमति नहीं ली। सीबीआई राज्य सरकार के मामले में बिना किसी अनुमति के जांच नहीं कर सकती।

क्या था नींबू पहाड़ पर अवैध खनन का मामला

नींबू पहाड़ पर विजय हांसदा ने अवैध खनन का ग्रामीणों के साथ विरोध किया था। लेकिन खनन में शामिल लोगों ने सरकारी अंगरक्षकों के सहारे सभी को वहां से भगा दिया। इसके बाद हांसदा ने थाने में पंकज मिश्रा, विष्णु यादव, पवित्र यादव, राजेश यादव, बच्चू यादव, संजय यादव व सुभाष मंडल के खिलाफ लिखित शिकायत की थी। थाने में कार्रवाई नहीं होने पर उसने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर सीबीआई जांच का आग्रह किया था। 

बाद में विजय हांसदा ने कोर्ट में एक आवेदन दायर कर अपनी मूल याचिका वापस लेने की अपील की। इसमें यह कहा गया कि उसने यह याचिका दायर नहीं की थी। जिस वक्त याचिका दायर की गयी थी, उस वक्त वह जेल में था। किसी ने उसके नाम पर यह याचिका दायर की है। अदालत ने याचिका वापस लेने का आवेदन रद्द कर दिया और सीबीआई को प्रारंभिक जांच के निर्देश दे दिए।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें