Neck stuck in cable hanging on the road not even worn helmet lost life - सड़क पर लटकते केबल में उलझ गई गर्दन, हेलमेट भी नहीं पहना था, चली गई जान DA Image
12 दिसंबर, 2019|3:56|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सड़क पर लटकते केबल में उलझ गई गर्दन, हेलमेट भी नहीं पहना था, चली गई जान

सड़क पर लटकते केबल में फंस कर बाइक सवार की मौत हो गई। सिटी सेंटर के पास सहजानंद नगर माली पट्टी का रहनेवाला 25 वर्षीय विकास कुमार मालाकार केबल की चपेट आकर बाइक से सड़क पर गिर गया। इससे उसकी मौत हो गई। घटना शुक्रवार की सुबह चार बजे की है। विकास फूल डेकोरेशन का काम करता था।

शुक्रवार को बरटांड़ बस स्टैंड में दो नई बसों को सजाने का काम कर रहा था। इसी दौरान फूल कम पड़ गए। विकास अपने स्टाफ विशुनपुर निवासी भोला यादव के साथ पल्सर बाइक से स्टेशन फूल लेने के लिए निकला। सिटी सेंटर से आगे बढ़ते ही सहजानंद नगर के सामने पेड़ से लटक रहे टेलीफोन केबल में उसकी गर्दन फंस गई। इसके साथ उसकी बाइक केबल में उलझ गई। बाइक असंतुलित होने के कारण दोनों सड़क पर गिर गए। विकास के सिर पर चोट आई जबकि भोला के शरीर के अन्य हिस्सों में चोट लगी है। सड़क पर गिरते ही विकास अचेत हो गया। घायल भोला ने किसी तरह परिजनों को इसकी सूचना दी।  जब तक परिजन मौके पर पहुंचते तब तक दोनों सड़क पर ही पड़े रहे। 

बोकारो ले जाने के दौरान रास्ते में तोड़ दिया दम

सूचना पाकर आनन-फानन में परिजन मौके पर पहुंचे। बस स्टैंड से भी लोग पहुंचे। तुरंत दोनों को उठाकर जालान अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने गंभीर रूप से जख्मी विकास को बोकारो रेफर कर दिया। बोकारो ले जाने के दौरान रास्ते में ही विकास ने दम तोड़ दिया। जबकि भोला का इलाज जालान अस्पताल में चल रहा है। 

शव पहुंचते ही घर पर मचा कोहराम

विकास की मौत के बाद जैसे ही शव उसके घर पहुंचा, घर में कोहराम मच गया। मां दहाड़ मारकर रो पड़ी। वह बार-बार बेहोश हो जा रही थी। परिजनों के चीत्कार से पूरा मुहल्ला गमगीन हो गया। सूचना पाकर आसपास से काफी संख्या में लोग जुट गए। मौके पर पहुंचे पार्षद अशोक पाल ने परिजनों का ढाढ़स बंधाया। बाद में सूचना पाकर पुलिस भी पहुंच गई। पंचनामा के बाद शव का पोस्टमार्टम कराया गया। शाम को गोविंदपुर खुदिया नदी में विकास का अंतिम संस्कार कर दिया गया। 

सबसे छोटा और सबका लाडला था विकास

विकास चार भाइयों प्रकाश मालाकार, सोनू मालाकार और जयकुमार मालाकार में सबसे छोटा था। भाइयों ने बताया कि विकास सबका लाड़ला था। पूरे घर परिवार में वह सबका चहेता था। 

हेलमेट होता तो बच जाती विकास की जान!

लोगों ने बताया कि विकास ने हेलमेट नहीं पहना था। इसकी वजह से वह सड़क पर सिर के बल गिरा। सिर में गंभीर चोट लगने से ही उसकी मौत हुई। विकास ने हेलमेट पहना होता, तो उसकी जान बच सकती थी। हालांकि परिजनों का कहना है कि विकास ने हेलमेट पहना था, लेकिन सड़क पर गिरने से पहले हेलमेट लॉक नहीं होने के कारण सिर से निकल गया और हादसा हो गया। 

पिता ने की टेलीकॉम कंपनी के खिलाफ शिकायत

विकास के पिता गोपाल मालाकार ने धनबाद थाने में एक निजी टेलीकॉम कंपनी के खिलाफ शिकायत की है। पुलिस को बताया कि कंपनी की लापरवाही के कारण तार सड़क पर पेड़ से नीचे तक लटक हुआ था। इसमें फंस कर उनके पुत्र की जान चली गई।इधर मामले में धनबाद थाना के इंस्पेक्टर नवीन कुमार राय ने बताया कि निजी टेलीकॉम कंपनी के खिलाफ शिकायत मिली है, लेकिन जांच में सामने आया कि केबल निजी कंपनी के नहीं, बल्कि बीएसएनएल का है। 

केबल और खुले तार के रूप में लटका रही मौत

शहर की मुख्य सड़क हो या फिर मुहल्लों की सड़कें। हर जगह केबल और खुले तार के रूप में मौत लटक रही है। मुख्य सड़कों पर जहां टेलीकॉम और डिश के तार लटकते मिलते हैं, वहीं मुहल्लों में खुले बिजली के तार से पहले भी कई हादसे हो चुके हैं। हादसों के बाद थोड़ा-बहुत हंगामे के बाद फिर से मामला ठंडे बस्ते में चला जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Neck stuck in cable hanging on the road not even worn helmet lost life