DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › चतरा में 15 लाख के इनामी उग्रवादी मुकेश गंझू ने किया आत्मसमर्पण, टीपीसी में सेकेंड सुप्रीमो है शातिर
झारखंड

चतरा में 15 लाख के इनामी उग्रवादी मुकेश गंझू ने किया आत्मसमर्पण, टीपीसी में सेकेंड सुप्रीमो है शातिर

चतरा रांची हिन्दुस्तान टीमPublished By: Yogesh Yadav
Thu, 14 Jan 2021 08:31 PM
चतरा में 15 लाख के इनामी उग्रवादी मुकेश गंझू ने किया आत्मसमर्पण, टीपीसी में सेकेंड सुप्रीमो है शातिर

उग्रवादी संगठन टीपीसी के सेकेंड सुप्रीमो और 15 लाख के इनामी उग्रवादी मुकेश गंझू उर्फ मुनेश्वर गंझू ने हथियार के साथ चतरा पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है। पुलिस ने हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की है। सूत्रों के अनुसार मुकेश गंझू को किसी गुप्त स्थान पर रखकर पूछताछ की जा रही है। संभावना जताई जा रही कि पुलिस शुक्रवार को मीडिया के सामने इसकी औपचारिक घोषणा कर सकती है। 

पुलिस को बड़ी कामयाबी: मुकेश गंझू के सरेंडर को झारखंड पुलिस की बड़ी कामयाबी माना जा रहा है। टीपीसी के संस्थापकों में एक रहे मुकेश गंझू की तलाश कई राज्यों की पुलिस के अलावा राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को भी विगत दो सालों से थी। एनआईए ने वांटेड उग्रवादियों की सूची में मुकेश को भी शामिल किया था।

एनआईए ने मुकेश के साथ-साथ टीपीसी सुप्रीमो ब्रजेश गंझू और आक्रमण को भी वांटेड घोषित किया था। जानकारी के मुताबिक कुछ सप्ताह पूर्व मुकेश राज्य पुलिस मुख्यालय के अधिकारियों के संपर्क में आया था। इसके बाद स्पेशल ब्रांच ने उसके सरेंडर के पहलुओं पर अलग से जांच की। बाद में मुकेश से अधिक से अधिक जानकारी जुटाने के लिए चतरा पुलिस को सौंप दिया गया। चतरा पुलिस ही मुकेश को पुराने मामलों में जेल भेजेगी।

कोल परियोजनाओं में वसूली का मास्टरमाइंड:
मुकेश गंझू सीसीएल के अशोका, पिपराडीह कोल परियोजना के साथ साथ मगध- आम्रपाली परियोजना से वसूली में वह मास्टरमाइंड था। भीखन गंझू के साथ मिलकर कोल कारोबारियों, लोडरों से वह प्रति टन पैसे की वसूली करता था। टीपीसी उग्रवादियों की कमिटी को हर माह करोड़ों की रकम लेवी के तौर पर मिलती थी। साल 2016 में चतरा के टंडवा में सभी उग्रवादियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। साल 2018 में एनआईए ने कोल परियोजनाओं में टेरर फंडिंग से जुड़ा मामला दर्ज किया। इस मामले के दर्ज होने के बाद एनआईए ने जांच में मुकेश , कोहराम, ब्रजेश गंझू, अनिश्चय गंझू, कमलेश समेत कई के खिलाफ चार्जशीट दायर किया था। 

एनआईए रिमांड पर लेकर करेगी पूछताछ
एनआईए अलग से मुकेश गंझू को रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी। एनआईए के अधिकारियों के मुताबिक झारखंड पुलिस के द्वारा न्यायिक हिरासत में भेजे जाने के बाद मुकेश गंझू को रिमांड पर लिया जाएगा। लेवी वसूली के अलावे हथियार बरामदगी के केस में भी एनआईए से पूछताछ होगी। 

झारखंड समेत कई राज्यों में दर्ज है मामला
मुकेश गंझू के खिलाफ झारखंड के चतरा में ही करीब दो दर्जन मामले दर्ज हैं। बिहार, ओड़िशा, छत्तीसगढ़ में भी मुकेश पर मामले दर्ज हैं। मुकेश पूर्व में भाकपा माओवादी में था लेकिन  2004 में संगठन से अलग होकर उसने ब्रजेश गंझू के साथ टीपीसी का गठन किया था।

संबंधित खबरें