DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यहां लेबर रूम में मोमबत्ती की रोशनी में कराया जाता है माताओं का प्रसव

हाईवे पर प्रसव

गुड़ाबांदा प्रखंड के सिंहपुरा के छागलीडांगा में स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में ट्रांसफॉर्मर जल जाने के कारण सात दिनों से बिजली नहीं है। मोमबत्ती और टॉर्च लाइट की रोशनी में एएनएम द्वारा माताओं का प्रसव कराया जा रहा है। इस संबंध में बिजली विभाग तथा स्वास्थ्य विभाग को सूचना देने के बावजूद भी बिजली बहाल करने की दिशा में कोई पहल नहीं हो रही है। ऐसे में माताओं के सुरक्षित प्रसव पर प्रश्न चिह्न खड़ा है।

केंद्र की एएनएम माधुरी वीर तथा ग्रामीणों ने बताया कि पिछले रविवार को वज्रपात से ट्रांसफॉर्मर जल गया। इसके कारण पीएचसी में बिजली नहीं है। माधुरी वीर के मुताबिक बिजली नहीं रहने से लेबर रूम में मोमबत्ती की रोशनी में प्रसव कराना पड़ रहा है। पिछले सात दिनों में केंद्र में तीन माताओं का प्रसव इन्हीं हालातों में कराया गया। जच्चा और बच्चा के साथ मोमबत्ती जलाकर रात गुजारनी पड़ती है। इस केंद्र में ही 108 एंबुलेंस के कर्मचारी रहते हैं। बिजली नहीं रहने के कारण उनका मोबाइल चार्ज नहीं हो रहा है। 

पीएससी का अपना भवन नहीं : जानकारी हो कि इस स्वास्थ्य केंद्र का अपना भवन नहीं है। स्वास्थ्य उप केंद्र भवन में ही स्वास्थ्य केंद्र संचालित होता है। इसलिए यहां चिकित्सा सुविधाओं का अभाव है। यहां पदस्थापित महिला चिकित्सक डॉ. भारती मिंज भी नहीं आती हैं। उन्हें किसी दूसरे अस्पताल में प्रतिनियुक्त किया गया है। ऐसे में एएनएम माधुरी वीर ही केंद्र का संचालन करती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mothers deliveries are done here in labor room in candlelight Worrying situation in jharkhand