DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  मंत्री जगरनाथ महतो सात महीने बाद लौटे झारखंड, सीएम हेमंत सोरेन ने खुद किया स्वागत
झारखंड

मंत्री जगरनाथ महतो सात महीने बाद लौटे झारखंड, सीएम हेमंत सोरेन ने खुद किया स्वागत

रांची । हिन्दुस्तान ब्यूरोPublished By: Yogesh Yadav
Mon, 14 Jun 2021 10:55 PM
मंत्री जगरनाथ महतो सात महीने बाद लौटे झारखंड, सीएम हेमंत सोरेन ने खुद किया स्वागत

झारखंड सरकार के मंत्री जगरनाथ महतो लंग्स ट्रांसप्लांट के सात महीने के बाद सोमवार की शाम विशेष विमान से चेन्नई से रांची पहुंचे। बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, कृषि मंत्री बादल और विधायक कुमार जय मंगल ने उनका स्वागत किया। 
रांची पहुंचने के बाद मंत्री जगन्नाथ महतो ने सबसे पहले मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को उनका इलाज करवाने के लिए धन्यवाद किया।

उन्होंने कहा कि डॉक्टर की दवाओं और लोगों की दुआओं की वजह से वापस हो सके हैं। इसके लिए उन्होंने एमजीएम अस्पताल चेन्नई के चिकित्सकों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि एमजीएम अस्पताल चेन्नई का इलाज और सुविधा झारखंड में सुपरहिट साबित हुई है। राज्य के लोगों ने यहां आना शुरू किया है और बड़ी संख्या में आएंगे। जगन्नाथ महतो ने कहा कि वह अभी ज्यादा नहीं बोलेंगे। इसके लिए सभी से क्षमा प्रार्थी हैं।

एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मंत्री जगरनाथ महतो से कहा कि झारखंड की धरती पर फिर से एक बार आपका स्वागत है। उन्होंने मंत्री से कुशल क्षेम पूछा और कहा कि अब वह कैसा महसूस कर रहे हैं? किसी भी प्रकार की स्वास्थ्य में दिक्कत होने पर उनसे और चिकित्सकों से अविलंब संपर्क करने को भी कहा। वही मंत्री बादल और विधायक कुमार जयमंगल ने एयरपोर्ट पर कहा कि  मंत्री जगरनाथ महतो को नया जीवन मिला है। यह सब मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की वजह से ही हो पाया है। उन्हीं के दबाव में जगरनाथ महतो को चेन्नई के एमजीएम अस्पताल ले जाया गया और उन्हीं ने लंग्स ट्रांसप्लांट के लिए डोनर की व्यवस्था की।

पत्नी ने पांव पघारा और आरती उतारी
एयरपोर्ट से मंत्री जगन्नाथ महत्व सीधे डोरंडा स्थित तलाश भवन के पास अपनी नए आवास पर गए। आवास गेट पर उनकी पत्नी ने सबसे पहले उनका पांव पघारा ( पैर धोया), तिलक लगाया और आरती उतारी।  उसके बाद उन्हें मिठाई खिलाकर और पानी पिला कर नए घर में प्रवेश कराया। मंत्री जगन्नाथ महतो के स्वागत में आवास पर तोरण द्वार से लेकर रेड कारपेट बिछाए गए थे। कार्यकर्ताओं ने जगरनाथ महतो के स्वागत में पटाखे भी जलाए। 

28 सितंबर को हुए थे  कोरोना संक्रमित
मंत्री जगरनाथ महतो 28 सितंबर को कोरोना हुए थे। वे स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग की बैठक में शामिल होने वाले थे, लेकिन अचानक सुबह से उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने लगी। बोकारो से ही उन्हें एंबुलेंस के जरिए  रिम्स लाकर भर्ती कराया गया। स्वास्थ्य में सुधार नहीं होने पर एक अक्टूबर को मंत्री जगन्नाथ महत्व को रांची के मेडिका अस्पताल में एडमिट कराया गया।

कोरोना से मंत्री जगन्नाथ महतो का  फेफड़ा संक्रमित हो गया और  उनकी स्थिति बिगड़ती चली गई। मुख्यमंत्री ने एमजीएम चेन्नई से संपर्क कर चिकित्सकों की टीम बुलाई। चिकित्सकों ने लंग्स ट्रांसप्लांट ही विकल्प बताया। इसके बाद एयर एंबुलेंस से 19 अक्टूबर को जगरनाथ महतो को एमजीएम चेन्नई में भर्ती कराया गया। डोनर मिलने के बाद 10 नवंबर को जगरनाथ महतो का लंग्स ट्रांसप्लांट हुआ। इसके बाद से  उनकी सेहत में लगातार सुधार हुआ। फरवरी में ही उन्हें झारखंड आना था, लेकिन ठंड की वजह से और उसके बाद कोरोना संक्रमण के दूसरे वेब की वजह से वह नहीं आ सके। अब जब कोरोना संक्रमण  की रफ्तार कम हुई है तो वह झारखंड लौट सके।

संबंधित खबरें