ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंडयूएन पहुंची कोडरमा की बेटी काजल, बाल मजदूरी के खिलाफ बुलंद की आवाज; पढ़ें वैश्विक नेताओं के सामने क्या कहा

यूएन पहुंची कोडरमा की बेटी काजल, बाल मजदूरी के खिलाफ बुलंद की आवाज; पढ़ें वैश्विक नेताओं के सामने क्या कहा

कोडरमा की बेटी काजल 21 सितंबर को न्यूयॉर्क में यूएन के मंच पर खड़ी थी। कभी खुद बाल मजदूर रही काजल ने अंतरराष्ट्रीय मंच से वैश्विक नेताओं के सामने बाल मजदूरों की पीड़ा बताई।

यूएन पहुंची कोडरमा की बेटी काजल, बाल मजदूरी के खिलाफ बुलंद की आवाज; पढ़ें वैश्विक नेताओं के सामने क्या कहा
Sneha Baluniहिटी,रांची कोडरमाFri, 23 Sep 2022 06:13 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

कोडरमा की बेटी काजल के लिए 21 सितंबर का दिन यादगार बन गया। काजल न्यूयॉर्क में यूएन के मंच पर खड़ी थी। कभी बाल मजदूरी का दंश झेलनी वाली काजल इस मंच पर वैश्विक नेताओं के सामने बाल मजदूरों की पीड़ा बता रही थी। इस प्रथा के खिलाफ आवाज बुलंद कर रही थी। मौका था संयुक्त राष्ट्र की ओर से आयोजित ट्रांसफॉर्मिंग एजुकेशन समिट का।

कोडरमा के डोमचांच की 20 वर्षीया काजल ने कहा कि बालश्रम और बाल शोषण के खात्मे में शिक्षा की अहम भूमिका है। बच्चों को शिक्षा के अधिक से अधिक अवसर देने होंगे। इसके लिए वैश्विक नेताओं को आर्थिक रूप से प्रयास करना चाहिए। नोबेल विजेताओं और वैश्विक नेताओं को संबोधित करते हुए काजल ने बालश्रम, बाल विवाह, बाल शोषण और बच्चों की शिक्षा को लेकर अपनी बात रखी। 

काजल ने कहा कि बच्चों के उज्ज्वल भविष्य के लिए शिक्षा चाबी के समान है। इसी के जरिए ही वे बालश्रम, बाल शोषण, बाल विवाह और गरीबी से बच सकते हैं। कार्यक्रम में नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित लीमा जीबोवी, स्वीडन के पूर्व प्रधानमंत्री स्टीफन लोवेन, बाल अधिकार कार्यकर्ता केरी कैनेडी समेत कई वैश्विक हस्तियां मौजूद थीं।

कभी बाल मजदूर थी काजल

काजल कोडरमा की मधुबन पंचायत स्थित एकतरवा गांव में बाल मित्र ग्राम में बाल पंचायत अध्यक्ष है। काजल कभी अभ्रक खदान में पिता के साथ मजदूरी करती थी। 14 साल की उम्र में बाल मित्र ग्राम ने उसे ढिबरा चुनने के काम से निकाल स्कूल में दाखिला करवाया। इसके बाद से काजल कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रन्स फाउंडेशन के फ्लैगशिप प्रोग्राम बाल मित्र ग्राम से जुड़ी। संस्थान की ओर से ही काजल का चयन अमेरिका जाने के लिए हुआ था।

epaper