Wednesday, January 19, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंडझारखंड: विभागीय अधिकारियों से शिक्षा मंत्री नाराज, कार्मिक विभाग को भेजा यह खास पत्र

झारखंड: विभागीय अधिकारियों से शिक्षा मंत्री नाराज, कार्मिक विभाग को भेजा यह खास पत्र

हिन्दुस्तान ब्यूरो,रांचीSudhir Kumar
Tue, 30 Nov 2021 08:40 AM
झारखंड: विभागीय अधिकारियों से शिक्षा मंत्री नाराज, कार्मिक विभाग को भेजा यह खास पत्र

इस खबर को सुनें

शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो विभागीय अधिकारियों और कर्मचारियों के कामकाज से काफी नाराज हैं। विभागीय गोपनीय सूचनाओं के बाहर निकलने पर उन्होंने अधिकारियों पर नाराजगी प्रकट की है। साथ ही उन्होंने वर्षों से शिक्षा विभाग में कार्य कर रहे कई अधिकारियों के तबादले के लिए कार्मिक विभाग को पीत पत्र लिखा है। चाहे ये अधिकारी राज्य प्रशासनिक सेवा के हों या फिर राज्य सचिवालय सेवा के।

शिक्षा विभाग ने कार्मिक विभाग को भेजे पीत पत्र में लिखा है कि विभाग में पिछले तीन वर्ष से अधिक समय से जो अधिकारी कार्यरत हैं, उन्हें शिक्षा विभाग से हटाकर दूसरे विभागों में भेजा जाए। साथ ही, उनकी जगह पर अन्य अधिकारियों को शिक्षा विभाग में स्थापित किया जाए। शिक्षा मंत्री ने शिक्षा विभाग में तीन साल से ज्यादा समय से कार्यरत अवर सचिव, उपसचिव, सेक्शन ऑफिसर, असिस्टेंट सेक्शन ऑफिसर को हटाने के लिए पीत पत्र लिखा है।

शिक्षकों के तबादले की भी कही है बात

शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने इससे पहले शिक्षकों के तबादले की बात कही थी। इसके लिए स्थानांतरण नियमावली में संशोधन किया जा रहा है। उन्होंने कहा था कि शिक्षकों को अपनी सेवा के दौरान शहर से लेकर सुदूर गांव तक काम करना होगा। जो शिक्षक शहरों में कार्यरत हैं उन्हें पांच-पांच सालों तक प्रखंड, ग्रामीण से लेकर नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में भी कार्य करने होंगे। अगले महीने स्थानांतरण नियमावली का भी प्रस्ताव शिक्षा मंत्री के पास भेजा जाएगा और उसे दिसंबर में ही मंजूरी दे दी जाएगी। वहीं दिसंबर में शिक्षा विभाग से जुड़े डीईओ, डीएसई और बीईईओ का भी तबादला होने की संभावना है। कई जिलों में जिला शिक्षा पदाधिकारी और जिला शिक्षा अधीक्षक का पद प्रभार में चल रहा है। जून में इनका तबादला नहीं हो सका था।

विकास कार्यों में तेजी लाने के लिए बदलाव जरूरी

शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने कहा है कि बदलाव जरूरी है। विकास कार्यों में तेजी लाने के लिए इसे किया जा रहा है। जो भी नए अधिकारी और कर्मचारी आएंगे व शिक्षा विभाग में नई ऊर्जा के साथ काम करेंगे। एक ही जगह पर पानी भी जमा रहता है तो गंदा हो जाता है। ऐसे में 8-8 साल से नियुक्त कर्मचारियों और अधिकारियों का तबादला होना आवश्यक है। सूत्रों की माने तो कई ऐसे प्रोजेक्ट जिस पर शिक्षा विभाग काम कर रहा है, उसकी सूचनाएं लीक होने पर सरकार की ओर से विभाग पर दबाव पड़ रहा है। राज्य के युवाओं, जनहित और कार्यरत कर्मियों से जुड़ी सूचनाएं बाहर आने से उनकी ओर से भी इस पर सवाल उठाए जा रहे हैं।

 

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें