DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › झारखंड में 9 अगस्त से खुलेंगे सभी सरकारी स्कूल, कल जारी होगी गाइडलाइन, जानें किसे मिली छूट
झारखंड

झारखंड में 9 अगस्त से खुलेंगे सभी सरकारी स्कूल, कल जारी होगी गाइडलाइन, जानें किसे मिली छूट

हिन्दुस्तान ब्यूरो,रांचीPublished By: Sneha Baluni
Sun, 01 Aug 2021 08:08 AM
झारखंड में 9 अगस्त से खुलेंगे सभी सरकारी स्कूल, कल जारी होगी गाइडलाइन, जानें किसे मिली छूट

राज्य के सरकारी 2337 हाई और प्लस टू स्कूल छात्र-छात्राओं के लिए नौ अगस्त से खुलेंगे। नौवीं से 12वीं तक के छात्र-छात्रा नौ अगस्त सोमवार से ही स्कूल आकर पढ़ सकेंगे। हालांकि शिक्षकों के लिए दो अगस्त से ही स्कूल खुल जाएंगे। शिक्षक एक सप्ताह में स्कूलों की साफ-सफाई और सैनिटाइजेशन सुनिश्चित कराएंगे, ताकि नौ अगस्त से क्लास का संचालन किया जा सके। 

स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग इसे लेकर सोमवार को गाइडलाइन जारी करेगा। राज्य सरकार ने 2022 में होने वाली मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षा को देखते हुए हाई और प्लस टू स्कूलों के छात्र-छात्राओं के क्लास के ऑफलाइन संचालन का निर्णय लिया है। इसमें छात्र-छात्रा अभिभावकों की सहमति के बाद ही स्कूल आ सकेंगे। इसके लिए उन्हें अभिभावकों से शपथ पत्र भरवा कर लाना होगा। 

स्कूलों में छात्र- छात्राओं की अटेंडेंस अनिवार्य नहीं होगी। जो छात्र-छात्रा स्कूल आकर ऑफलाइन पढ़ाई करना चाहे वही आ सकेंगे। जो घर पर रहकर ऑनलाइन शिक्षा और डिजिटल कंटेंट लेना चाहे, वह ले सकेंगे। यह व्यवस्था बंद नहीं होगी। क्लास में आने के पूर्व बच्चों को यह भी शपथ पत्र देना होगा कि उनके परिवार में कोई कोरोना पीड़ित नहीं हैं और हाल में वे किसी कोरोना संक्रमित से संपर्क में नहीं आए हैं। स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग अगले सप्ताह क्लास संचालन की पूरी गाइडलाइन जिलों के माध्यम से स्कूलों को उपलब्ध करा देगा। 

साढ़े तीन माह खुले थे स्कूल

कोरोना महामारी की वजह से पिछले वर्ष स्कूल नौ महीनों तक नहीं खुले। 21 दिसंबर 2020 से हाई और प्लस टू स्कूलों के छात्र छात्राओं के लिए स्कूल खोले गए थे। अप्रैल 2021 की शुरुआत में कोरोना के मामले को देखते हुए फिर से बंद कर दिया गया था। इस दौरान अधिकतम 30 फीसदी छात्र-छात्रा ही स्कूल आ रहे थे, बाकी घर पर उपलब्ध कराए जा रहे डिजिटल कंटेंट के माध्यम से पढ़ रहे थे। 

चार माह से बंद हैं स्कूल

कोरोना के बढ़ते मामले की वजह से अप्रैल 2021 में स्कूलों को बंद कर दिया गया था। अभी तक रोटेशन में ही शिक्षक आ रहे थे। अब जब सरकार ने स्कूल खोलने का आदेश दे दिया है तो सभी शिक्षक अनिवार्य रूप से स्कूल आएंगे। चार महीने लगातार बंद रहने से कमरों की साफ-सफाई और सैनिटाइजेशन की आवश्यकता है। शिक्षक एक सप्ताह के अंदर इसे सुनिश्चित कराएंगे। बरसात की वजह से स्कूल परिसर की भी साफ-सफाई प्रभावित हुई है उसकी सफाई भी सुनिश्चित कराएंगे। 

स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग के सचिव राजेश शर्मा ने कहा, 'स्कूलों को क्वारंटाइन सेंटर बनाया गया था। अधिकांश स्कूल के बंद रहने की वजह से क्लासरूम और परिसर में गंदगी है। अगले सप्ताह तीन दिनों तक इन स्कूलों में साफ-सफाई होगी। स्कूलों के सभी कमरों को सैनिटाइज किया जाएगा। इसके बाद स्कूलों की साफ सफाई की समीक्षा की जाएगी और आने वाले अगले सप्ताह में बच्चों को स्कूल बुलाने पर निर्णय लिया जाएगा।'

संबंधित खबरें