DA Image
Saturday, November 27, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंडझारखंड: सूबे में पंचायत चुनाव 10 से 30 दिसंबर के बीच होंगे, जानिए, कितने चरणों में होंगे चुनाव

झारखंड: सूबे में पंचायत चुनाव 10 से 30 दिसंबर के बीच होंगे, जानिए, कितने चरणों में होंगे चुनाव

विशेष संवाददाता,रांचीSudhir Kumar
Sun, 17 Oct 2021 07:15 AM
झारखंड: सूबे में पंचायत चुनाव 10 से 30 दिसंबर के बीच होंगे, जानिए, कितने चरणों में होंगे चुनाव

राज्य में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की कवायद तेज हो गई है। पंचायती राज विभाग ने पंचायत चुनाव से संबंधित प्रस्ताव तैयार कर लिया है। जानकारी के अनुसार राज्य में पंचायत चुनाव चार से पांच चरणों में 10 से 30 दिसंबर के दौरान होंगे। जल्द ही इससे संबंधित प्रस्ताव मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की सहमति से कैबिनेट में स्वीकृति के लिए लाया जाएगा। संसदीय कार्य एवं ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम के मुताबिक कैबिनेट की मुहर के बाद पंचायत चुनाव का प्रस्ताव राज्यपाल को भेजा जाएगा। राज्यपाल के अनुमोदन के बाद चुनाव होगा।

राज्य में पंचायत चुनाव को लेकर तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। जून में वोटर लिस्ट को अंतिम रूप दे दिया गया था। सीटों को आरक्षित करने की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। चुनाव चिह्न अधिसूचित किया जा चुका है। राज्य निर्वाचन आयुक्त डीके तिवारी ने हर जिले में चुनाव से संबंधित वेबसाइट शुरू करने का निर्देश दिया है। फोटोयुक्त मतदाता सूची का काम किया जा रहा है। शांतिपूर्ण चुनाव को लेकर पुलिस अधीक्षक निर्देशानुसार सुरक्षा बल की तैनाती का खाका तैयार कर रहे हैं। चुनाव अधिकारियों एआरओ, आरओ की प्रतिनियुक्ति भी की जा रही है।

दो बार कार्यकारी समितियों को मिला विस्तार

त्रिस्तरीय पंचायती राज संस्थाओं का चुनाव 2015 में हुआ था। पांच वर्षों का कार्यकाल पूरा होने के बाद कोरोना संक्रमण के कारण दिसंबर 2020 में पंचायत चुनाव नहीं हो सके और पंचायती संस्थायें विघटित हो गईं। दूसरी ओर सरकार ने सात जनवरी 2021 को अधिसूचना जारी कर छह माह तक के लिये कार्यकारी संस्थाओं का गठन किया गया। कोरोना संक्रमण के कारण पंचायत चुनाव इस दौरान भी नहीं हो सके। ऐसी स्थिति में राज्य सरकार राज्यपाल की स्वीकृति से दोबारा इसका विस्तार किया गया।

झारखंड पंचायत राज (संशोधन) अध्यादेश 2021

इसके तहत पंचायत चुनाव होने तक गांवों में विकास कार्यों को संचालित करते रहने के लिये वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में दस अगस्त को कार्यकारी समितियों का गठन किया। इस बार अवधि विस्तार तब तक के लिए दिया गया है जब तक त्रिस्तरीय पंचायती चुनाव संपन्न न हो जाए।

सीएम से चर्चा के बाद कैबिनेट में आएगा प्रस्ताव : आलम

संसदीय कार्य एवं ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम के मुताबिक कोरोना के कारण तय समय में पंचायत चुनाव नहीं कराया जा सका। कार्यों को संचालित करने के लिये दो बार वैकल्पिक व्यवस्था कराई गई। इसके साथ ही लोगों को आश्वस्त किया गया था कि राज्य में 31 दिसंबर तक पंचायत चुनाव करा लिया जाएगा। इसी आधार पर प्रस्ताव बनाया गया है। मुख्यमंत्री से विमर्श के बाद पंचायत चुनाव का प्रस्ताव कैबिनेट में लाया जाएगा। चार से पांच चरणों में पंचायत चुनाव कराने का प्रस्ताव है।


 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें