DA Image
1 दिसंबर, 2020|11:11|IST

अगली स्टोरी

झारखंड : कोरोना काल में पीएफ से पैसा निकालने वालों की संख्या हुई दोगुनी

कोरोनाकाल में लगे अर्थग्रहण का असर झारखंड में दिखने लगा है। नौकरी से बाहर हो रहे लोगों की तादाद बढ़ती जा रही है। बहुतेरी कंपनियों में नौकरी से नहीं हटाए जाने के बावजूद वेतन के लाले पड़ गए हैं। इस कारण झारखंड में भविष्य निधि से पैसा निकालने वालों की तादाद दोगुनी हो गई है। 

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के रांची आयुक्तालय के आंकड़ों के मुताबिक अप्रैल में लगभग 6500 लोगों ने अपने भविष्य़ के लिए रखी राशि निकाल ली। जुलाई में तो 13 हजार लोगों ने पीएफ फंड से पैसा निकालकर अवकाश बाद या अवकाश से पहले के भावी सपनों पर ब्रेक लगा डाला। पैसा निकालने के लिए आवेदन देने वालों की संख्या इससे कहीं ज्यादा है। जिनके आवेदन आधे-अधूरे भरे होने या दूसरे तकनीकी कारणों से रद्द किए गए हैं। अप्रैल से जुलाई तक पीएफ खाते से पैसा निकालने वालों की तादाद लगातार बढ़ती जा रही है। अगस्त के आंकड़े आने तक यह तादाद और अधिक बढ़ जाने की आशंका है। जाहिर है कि कोरोना काल में किसी बड़े काम के लिए लोग पैसा नहीं निकाल रहे हैं। रोजमर्रा की जरूरतों के लिए ही बुढ़ापे का सहारा जवानी में खत्म कर रहे हैं।

पुराने खातों से भी लोग निकाल रहे पैसा : कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के एक अधिकारी के मुताबिक भविष्य निधि के दो दशक पुराने खातों से भी लोग पैसा निकाल रहे हैं। कई लोग कोरोना काल में आय़ बंद हो जाने और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के गंभीर होने के कारण भी पैसा निकाल रहे हैं। लंबे समय से राशि जमा नहीं हो रहे खातों में से पैसा निकालने वालों की तादाद भी बढ़ी है। खासकर औद्योगिक इलाकों में भविष्य निधि से पैसा निकालने वाले बढ़े हैं। लघु-उद्योगों और छोटी कंपनियों के बंद होने या वेतन नहीं दे पाने का खामियाजा वहां के कर्मचारियों को उठाना पड़ रहा है।

लगभग 200 करोड़ निकाल चुके हैं कर्मचारी : कर्मचारी भविष्य निधि संगठन में प्राइवेट कंपनियों के कर्मचारियों का खाता होता है। कोरोनाकाल में लॉकडाऊन की मार ऐसी ही कंपनियों पर पड़ी है। ऐसे कर्मचारियों के झारखंड स्थित खातों से अगस्त के अंत तक लगभग दौ सौ करोड़ रुपए निकालने के अनुमान हैं। एक अप्रैल से लेकर 20 जुलाई तक केवल रांची आयुक्तालय कर्मचारियों के भविष्य निधि खातों से 111 करोड़ रुपए निकाले जा चुके हैं। बिगड़ते हालात को देखते हुए कर्मचारी भविष्य़निधि संगठन ने भविष्य निधि खातों से कुल जमा का 75 फीसदी या तीन महीने के वेतन के बराबर राशि निकालने की छूट दे रखी है। अप्रैल-जुलाई तक के लिए यह योजना थी। परंतु, अगस्त में भी काफी तादाद में आवेदन आए हैं। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन कार्यालय इस पर विचार कर रहा है।

ऐसे बढ़ रही पीएफ से पैसा निकालने वालों की तादाद
महीना        कर्मचारी        राशि(करोड़ में)
अप्रैल        6500            15
मई        6700            22
जून        11000        34
जुलाई        13000        40

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Jharkhand: Number of PF withdrawals doubled in Corona period