ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडगिरफ्तारी का था अनुमान, इसलिए पहले ही बना लिया प्लान; हेमंत सोरेन ने शेयर किया लेटर

गिरफ्तारी का था अनुमान, इसलिए पहले ही बना लिया प्लान; हेमंत सोरेन ने शेयर किया लेटर

गिरफ्तारी के बाद हेमंत सोरेन के एक्स पर वह पत्र पोस्ट किया गया जिसमें महागठबंधन के विधायक दल का नेता चंपई सोरेन को चुने जाने की जानकारी महागठबंधन के सभी विधायकों को दी गई है।

गिरफ्तारी का था अनुमान, इसलिए पहले ही बना लिया प्लान; हेमंत सोरेन ने शेयर किया लेटर
Abhishek Mishraहिन्दुस्तान,रांचीThu, 01 Feb 2024 08:06 AM
ऐप पर पढ़ें

गिरफ्तारी के बाद हेमंत सोरेन के एक्स पर वह पत्र पोस्ट किया गया जिसमें महागठबंधन के विधायक दल का नेता चंपई सोरेन को चुने जाने की जानकारी महागठबंधन के सभी विधायकों को दी गई है। हेमंत सोरेन के मुख्यमंत्री रहते लिखे गए पत्र में बताया गया है कि 30 जनवरी 2024 को पार्टी विधायक दल की बैठक में सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित किया गया था कि किसी विपरीत परिस्थिति में अगर उन्हें नेता विधायक दल का अपना पद छोडना पड़ा, तब विधायक दल के नये नेता का चयन उनके द्वारा किया जाएगा, जो सर्वमान्य होगा। उपरोक्त प्रस्ताव पर सभी गठबंधन दल के विधायकों की बैठक में भी सहमति जतायी गयी थी।

सीएम ने लिखा है कि वह ईडी के समन के अनुपालन में उपस्थित होने जा रहे हैं। अगर उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाता है तो ऐसी परिस्थिति में उन्होंने सम्यक विचारोपरांत भी चंपई सोरेन को विधायक दल का नया नेता नामित करने का निर्णय लिया है। विधायक दल की बैठक में इन्हें विधिवत रुप से विधायक दल का नेता चुनने के बाद सभी सहयोगी दलों के नेताओं के साथ उनका समर्थन पत्र लेकर नये नेता के नेतृत्व में आप सभी विधायक राज्यपाल के समक्ष जाकर नयी सरकार के गठन का दावा पेश करेंगे और अपनी चट्टानी एकता का परिचय देते हुए नई सरकार के गठन तक रांची में उपस्थित रहेंगे।

दिल्ली में दबिश के बाद तय हो गई थी सोरेन की गिरफ्तारी

हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी दिल्ली में उनके आवास पर हुई दबिश के बाद तय हो गई थी। 29 जनवरी की सुबह ईडी की टीम ने जब छापेमारी की, तब एजेंसी को हेमंत सोरेन मौके पर नहीं मिले थे। एजेंसी के अधिकारियों ने तब उनसे संपर्क करने की कोशिश की थी, लेकिन मोबाइल बंद मिला था। वहीं तकरीबन 30 घंटे से अधिक अवधी तक वह ट्रेसलेस रहे थे। सोरेन के मौके पर नहीं मिलने पर ईडी ने मौके से एक बीएमडब्ल्यूकार व 36.34 करोड़ रुपये कैश बरामद किए थे। उसी दिन सीएम के आधिकारिक मेल से एक ईमेल ईडी को भेजा गया था, जिसके बाद एजेंसी को पूछताछ के लिए 31 जनवरी की दोपहर एक बजे का वक्त दिया गया था। बुधवार को ईडी अफसरों पर केस करना भी हेमंत के लिए परेशानी खड़ी करने वाला रहा।

विपरीत परिस्थितियों में चलायी सरकार

उन्होंने अन्त में लिखा है कि सभी के सहयोग, प्यार और आशीर्वाद से उन्होंने चार वर्षों तक विपरीत परिस्थितियों में सरकार को सफल नेतृत्व देने का यथासंभव प्रयास किया। जनहित के भी बहुत सारे कार्यों को पूरा किया। यह सभी के सहयोग और समर्थन के बिना संभव नहीं था इसके लिए वह सभी के सदा आभारी रहेंगे।

परिवार का ख्याल रखने की अपील

उन्होंने अनुरोध किया है कि उनकी अनुपस्थिति में उनके परिवार, पिता दिशोम गुरु शिबू सोरेन और माता जिनका स्वास्थ्य ठीक नहीं है उनका भी ख्याल रखेंगे और उनके छोटे भाई पर भी अपना स्नेह बनाये रखेंगे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें