DA Image
22 नवंबर, 2020|12:47|IST

अगली स्टोरी

झारखंड की राज्यपाल ने कहा-बाल अधिकारों को बढ़ावा देने के लिए सरकार प्रतिबद्ध

संयुक्त राष्ट्र बाल अधिकार समझौता (यूएनसीआरसी) की 30वीं वर्षगांठ पर राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने यूनिसेफ के बाल पत्रकारों से भेंट की और उनसे बाल अधिकार के मुद्दों पर चर्चा की।

राज्यपाल के साथ बातचीत में यूनिसेफ की बाल पत्रकार जानकी कुमारी, फरहीन परवीन और मोहम्मद कैफ ने हिस्सा लिया। उन्होंने राज्यपाल को बाल पत्रकारों के किए गए कार्यों-बाल विवाह और बाल श्रम रोकने व बच्चों को स्कूल से जोड़ने आदि प्रयासों के बारे में बताया। बाल पत्रकारों ने कोविड-19 को लेकर समुदाय में जागरुकता और सुरक्षा प्रोटोकॉल के बारे में प्रचार-प्रसार के लिए किए गए प्रयासों से भी राज्यपाल को अवगत कराया।

बातचीत के दौरान राज्यपाल ने कहा कि अगर बच्चों को अभिव्यक्ति का मंच दिया गया, तो वे समुदायों में शिक्षा, सभी बच्चों के लिए सुरक्षित और बाल हितैषी वातावरण के निर्माण के लिए लोगों को प्रेरित करने का कार्य कर सकते हैं। कहा कि झारखंड के बच्चे भविष्य के नेता, शिक्षक, डॉक्टर और राज्य में विकास के शिल्पीकार हैं। हम बाल अधिकारों को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। सरकार ने बच्चों के स्वास्थ्य, पोषण और शिक्षा को लेकर कई पहल की है। हम आगे भी संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्य -2030 और बच्चों के मुद्दों को लेकर समुदाय के साथ मिलकर काम करते रहेंगे। 

यूनिसेफ झारखंड के प्रमुख प्रशांत दास ने कहा कि बाल अधिकार के लिए हम सब को मिलकर काम करने की जरूरत है। क्योंकि, सिर्फ सरकार के प्रयासों से ही बाल अधिकार के इस लक्ष्य को नहीं प्राप्त कर सकते। यूनिसेफ झारखंड की कम्यूनिकेशन ऑफिसर आस्था अलंग ने कहा कि यूनिसेफ वर्ष 2009 से झारखंड में बाल पत्रकार कार्यक्रम का संचालन कर रहा है। इस वर्ष, रांची के पांच प्रखंडों के 550 से अधिक बाल पत्रकारों को बाल अधिकार के मुद्दों को लेकर प्रशिक्षित किया गया है। प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद ये बच्चे सतत विकास लक्ष्य के मुद्दों- बच्चों के लिए पोषण और स्वास्थ्य, बाल श्रम उन्मूलन और सभी बच्चों के लिए शिक्षा की आवश्यकता आदि को लेकर लोगों को जागरूक कर रहे हैं। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Jharkhand Governor said - Government committed to promote child rights