ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडझारखंड सरकार के सामने नया संकट, अब कांग्रेस में पड़ गई फूट! 12 विधायक नाराज

झारखंड सरकार के सामने नया संकट, अब कांग्रेस में पड़ गई फूट! 12 विधायक नाराज

कांग्रेस के सहयोग से झारखंड में चल रही चंपाई सोरेन सरकार के सामने नई मुश्किल खड़ी हो गई है। झारखंड कांग्रेस में मंत्री पद को लेकर फूट पड़ती दिख रही है। बताया जा रहा है कि 12 विधायक नाराज हो गए हैं।

झारखंड सरकार के सामने नया संकट, अब कांग्रेस में पड़ गई फूट! 12 विधायक नाराज
Sudhir Jhaहिन्दुस्तान,रांचीFri, 16 Feb 2024 05:08 PM
ऐप पर पढ़ें

कांग्रेस के सहयोग से झारखंड में चल रही चंपाई सोरेन सरकार के सामने नई मुश्किल खड़ी हो गई है। झारखंड कांग्रेस में मंत्री पद को लेकर फूट पड़ती दिख रही है। कांग्रेस के दर्जनभर विधायक पुराने चेहरों को ही दोबारा मंत्री बनाए जाने को लेकर नाराज हैं। इरफान अंसारी, अंबा प्रसाद, विक्सल कोंगड़ी, दीपिका पांडे सिंह समेत ज्यादातर विधायक इस गुट का हिस्सा हैं। 

इस विरोधी खेमे ने आलमगीर आलम और अन्य तीन पुराने मंत्रियों (जो हेमंत सोरेन सरकार में भी मंत्री थे) की जगह नए चेहरों को मौका देने की मांग की थी। बताया जा रहा है कि विरोधी कांग्रेस विधायक शपथ ग्रहण समारोह का बहिष्कार करने का मन बना चुके थे। कांग्रेस के झारखंड प्रभारी गुलाम अहमद मीर ने गेस्ट हाउस में विधायकों के साथ बैठक की और उन्हें समारोह में शामिल होने के लिए मनाया।  

चंपाई कैबिनेट का शुक्रवार को विस्तार हुआ। राजभवन में हुए शपथ ग्रहण कार्यक्रम में बसंत सोरेन समेत 8 को शपथ दिलाई गई। कांग्रेस के कोटे से एक बार फिर आलमगीर आलम, रामेश्वर उरांव, बादल पत्रलेख, बन्ना गुप्ता को ही मंत्री बनाया गया है। इससे पहले कांग्रेस के विधायकों ने झारखंड प्रभारी गुलाम अहमद मीर से गुरुवार देर शाम सर्किट हाउस में मुलाकात की और कड़ा विरोध जताया।

विधायकों ने दो टूक कह दिया है कि अगर पुराने मंत्रियों को ही रिपीट करना है तो पार्टी में उनकी प्रासंगिता क्या है। कांग्रेस विधायकों ने कहा कि यह चर्चा हो रही है कि पिछली सरकार में कांग्रेस कोटे के मंत्रियों को ही फिर से चंपाई सरकार में भी मंत्री बनाया जा रहा है। यह सही नहीं है। मंत्रियों के कामकाज और व्यवहार से पार्टी के कार्यकर्ता से लेकर विधायक तक पीड़ित रहे हैं। आम लोग भी खुश नहीं हैं। इसकी शिकायत प्रदेश नेतृत्व से लेकर राज्य प्रभारी और दिल्ली दरबार तक में की गई।

कांग्रेस की वजह से ही विस्तार में देर
इससे पहले 8 फरवरी को ही मंत्रिमंडल का विस्तार होना था। सीएम चंपाई सोरेन के आग्रह पर राजभवन में इसकी तैयारी भी पूरी कर ली गई थी। लेकिन कांग्रेस में मंत्रियों के नाम पर सहमति नहीं बन पाने के कारण संशोधित कार्यक्रम 16 फरवरी का तय किया गया। इससे पहले हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी के बाद दो फरवरी को चंपाई सोरेन मुख्यमंत्री के अलावा कांग्रेस के आलमगीर आलम और राजद के सत्यानंद भोक्ता मंत्री पद की शपथ ले चुके हैं।  

कांग्रेस प्रभारी ने आलाकमान तक पहुंचाई शिकायतें
सूत्रों की माने तो मंत्री पद को लेकर कांग्रेस विधायकों के कड़े रुख के बाद कांग्रेस के झारखंड प्रभारी गुलाम अहमद मीर ने पार्टी आलाकमान तक विधायकों की शिकायतें पहुंचाई। दिल्ली में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव केसी वेनुगोपाल के समक्ष सारी बातें रखी गई है। वे पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को इसकी सारी जानकारी देंगे।  

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें