ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंडझारखंड में जातीय सर्वे के फैसले से 'इंडिया' ने खेला बड़ा दांव, समझिए कैसे

झारखंड में जातीय सर्वे के फैसले से 'इंडिया' ने खेला बड़ा दांव, समझिए कैसे

चंपाई सोरेन ने कैबिनेट की बैठक के बाद जातीय सर्वे पर कहा कि विभाग अब आगे का काम करेगा। सरकार ने विभाग तय कर दिया है। उन्होंने ये भी कहा कि राज्य में बहाली की प्रकिया बहुत तेजी से आगे बढ़ेगी।

झारखंड में जातीय सर्वे के फैसले से 'इंडिया' ने खेला बड़ा दांव, समझिए कैसे
Devesh Mishraहिन्दुस्तान,रांचीThu, 20 Jun 2024 07:39 AM
ऐप पर पढ़ें

झारखंड सरकार के कैबिनेट द्वारा जातीय सर्वेक्षण के फैसले से 'इंडिया' गठबंधन ने बड़ा दांव खेला है। झारखंड में लोकसभा चुनाव के दौरान भी ओबीसी वोट बैंक को साधने की कोशिश में लगे कांग्रेस-झामुमो गठबंधन के द्वारा लगातार ही यह नारा दिया जाता रहा है कि जिसकी जितनी आबादी, उसकी उतनी भागीदारी।

विधानसभा चुनाव से पहले बड़ा दांव
मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने भी फरवरी महीने में एक्स पोस्ट किया था कि जिसकी जितनी संख्या, उतनी ही उसे हिस्सेदारी मिलेगी, झारखंड इसके लिए तैयार है। राज्य सरकार ने साल 2021 में ओबीसी आरक्षण से जुड़ा विधेयक भी पास करवाया था, जिसमें ओबीसी आरक्षण को बढ़ाने का फैसला लिया गया था। 'इंडिया' गठबंधन इस विधेयक पर भाजपा को घेरता रहा है कि भाजपा नौंवी अनुसूची में डालकर इसे कानूनन संरक्षित नहीं करना चाहती। अब जब राज्य में विधानसभा के चुनाव होने हैं, राज्य सरकार ने जातीय सर्वेक्षण के फैसले से बड़ा दांव खेला है।

ओडिशा और बिहार में हो चुका है जातीय सर्वेक्षण
झारखंड के पड़ोसी राज्य बिहार और ओडिशा में राज्य सरकार जातीय सर्वेक्षण करा चुकी है। झारखंड सरकार ने कैबिनेट में जातीय सर्वेक्षण कराने का फैसला लिया है। कांग्रेस विधायक प्रदीप यादव ने फरवरी महीने में जतीय जनगणना की मांग करते हुए आरक्षण की सीमा 14 प्रतिशत से बढ़ाकर 27 प्रतिशत करने की मांग की थी। इस मांग के बाद ही कार्मिक विभाग से जातीय सर्वेक्षण कराने का फैसला लिया था।

विभाग तय, अब होगा आगे का काम चंपाई
मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने कैबिनेट की बैठक के बाद जातीय सर्वेक्षण पर कहा कि विभाग अब आगे का काम करेगा। सरकार ने विभाग तय कर दिया है। उन्होंने ये भी कहा कि राज्य में बहाली की प्रकिया बहुत तेजी से आगे बढ़ेगी। सितंबर तक बहुत लोगों को नियुक्ति पत्र मिलने जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि चुनाव के बाद भाजपा भयभीत दिख रही है, जबकि गठबंधन राज्य में बहुत मजबूती के साथ अगले चुनाव में भी आएगा। गठबंधन को तोड़ने में विपक्ष असफल रहा है। वहीं, स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि बड़े नेता शिवराज सिंह चौहान को भाजपा ने किनारा कर दिया था, अब किसी के आने से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है। ओबीसी के 27 प्रतिशत आरक्षण का क्या हुआ, ये लोग संविधान की हत्या का प्रयास कर रहे हैं। मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने कहा कि चुनाव में जनता निर्णय करेगी। जनता के लिए जो काम किए है, उसके आधार चुनाव लड़ेंगे। राज्य सरकार 99 प्रतिशत काम कर चुकी है। 

Advertisement