ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंडकैश कांड वाले नौकर की कार से क्यों चलता था निजी सचिव, दूसरे दिन भी मशीनों से गिनने पड़े पैसे

कैश कांड वाले नौकर की कार से क्यों चलता था निजी सचिव, दूसरे दिन भी मशीनों से गिनने पड़े पैसे

सोमवार को ईडी ने जब संजीव लाल (निजी सचिव) के यहां छापेमारी की, तब उसके पास से एक टाटा हैरियर एसयूवी जब्त की गई। ईडी ने जांच में पाया है कि यह गाड़ी जहांगीर के नाम पर ही खरीदी गई थी।

कैश कांड वाले नौकर की कार से क्यों चलता था निजी सचिव, दूसरे दिन भी मशीनों से गिनने पड़े पैसे
Devesh Mishraहिन्दुस्तान,रांचीWed, 08 May 2024 06:59 AM
ऐप पर पढ़ें

झारखंड कैश कांड में ईडी ने नौकर और 'मालिक' को गिरफ्तार कर लिया है। दो दिन से छापेमारी वाला ऐक्शन जारी है। इस मामले में पांच और लोगों की गिरफ्तारी हो सकती है। ईडी को पहले दिन तो नोटों को पहाड़ मिला था लेकिन दूसरे दिन भी एक ठेकेदार के घर से खूब पैसे मिले। ईडी को बैंक से नोट गिनने वाली मशीनें मंगानी पड़ीं। ऐसे में ईडी की तरफ से एक और अहम जानकारी सामने आई है। दरअसल, मंत्री आलमगीर आलम का निजी सचिव अपने नौकर जहांगीर की कार से चलता था। बता दें कि जहांगीर के फ्लैट से ही ईडी को 31 करोड़ रुपए से ज्यादा कैश मिले हैं।

नौकर की कार से क्यों चलता था निजी सचिव
सोमवार को ईडी ने जब संजीव लाल (निजी सचिव) के यहां छापेमारी की, तब उसके पास से एक टाटा हैरियर एसयूवी जब्त की गई। ईडी ने जांच में पाया है कि यह गाड़ी जहांगीर के नाम पर ही खरीदी गई थी। इसका पता चतरा के जहांगीर के आवास का है। जिस फ्लैट में कैश का पहाड़ मिला है वह भी नौकर ने 40 लाख रुपए में खरीदा था।

यह भी पढ़िए: केवल तीन महीने में बन गया था नोटों का पहाड़, ईडी ने बताया फ्लैट में नो एंट्री वाला राज

दूसरे दिन भी छापे, ठेकेदार के यहां मिले 2.14 करोड़
झारखंड सरकार के ग्रामीण विकास विभाग में ठेकों में कमीशनखोरी और मनी लाउंड्रिंग को लेकर ईडी ने दूसरे दिन मंगलवार को भी इंजीनियरों और ठेकेदार के पांच ठिकानों पर छापेमारी की। इस कार्रवाई में ईडी ने ठेकेदार राजीव कुमार सिंह के हटिया स्थित मेकॉन वाटिका अपार्टमेंट के फ्लैट में छापेमारी कर 2.14 करोड़ रुपये बरामद किए।

मशीनों से गिनने पड़े पैसे
ईडी अधिकारियों के मुताबिक, सोमवार को ओएसडी संजीव लाल के नौकर जहांगीर आलम, ओएसडी के कारोबारी साझेदार मुन्ना सिंह के यहां से बरामद 35.23 करोड़ रुपये के स्रोत पर पूछताछ में राजीव कुमार सिंह का नाम उभर कर सामने आया था। इसके बाद मंगलवार सुबह ईडी टीम ने ठेकेदार और इंजीनियरों के ठिकाने पर दबिश दी। नकद बरामदगी के बाद बैंक से नोट गिनने की मशीन मंगाई गईं। इधर, जमशेदपुर के जुगसलाई निवासी कारोबारी श्याम सिंह के ठिकानों पर भी ईडी ने मंगलवार को छापेमारी की। ईडी पूर्व में भी श्याम सिंह के ठिकानों पर छापे मार चुकी है।

संजीव और जहांगीर से पूछताछ के बाद छापेमारी
ओएसडी संजीव लाल और उसके नौकर जहांगीर आलम से पूछताछ में ईडी को इस कड़ी से जुड़े कई लोगों की जानकारी मिली। इसके बाद मंगलवार को राजीव कुमार सिंह के अलावा ग्रामीण विकास विभाग के इंजीनियर राजकुमार उरांव के हेसल बगीचाटोली स्थित आवास, इंजीनियर अर्जुन मुंडा के कांके पतराटोली स्थित आवास पर भी ईडी टीम ने एक साथ छापेमारी की। टीम इंजीनियर मुंडा के एक रिश्तेदार के बीआईटी मेसरा स्थित आवास भी गई थी, लेकिन वहां से बाद में निकल गई। ईडी ने मंगलवार को भी इंजीनियर कुलदीप मिंज और विकास कुमार के यहां छापेमारी की। ईडी ने हटिया स्थित मेकॉन वाटिका अपार्टमेंट में मंगलवार को ठेकेदार राजीव सिंह के फ्लैट से 2.14 करोड़ रुपए बरामद किए।