ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंडजांच के घेरे में आयुष्मान योजना से जुड़े झारखंड के 10 अस्पताल, हेल्थ डिपार्टमेंट ने मांगा जवाब; क्या-क्या आरोप

जांच के घेरे में आयुष्मान योजना से जुड़े झारखंड के 10 अस्पताल, हेल्थ डिपार्टमेंट ने मांगा जवाब; क्या-क्या आरोप

राज्य के अस्पतालों में गड़बड़ी का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। आयुष्मान भारत योजना से जुड़े झारखंड के 10 अस्पताल जांच के घेरे में हैं। इन सभी से स्वास्थ्य विभाग ने जवाब मांगा है।

जांच के घेरे में आयुष्मान योजना से जुड़े झारखंड के 10 अस्पताल, हेल्थ डिपार्टमेंट ने मांगा जवाब; क्या-क्या आरोप
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,धनबादSat, 18 May 2024 08:57 AM
ऐप पर पढ़ें

झारखंड में आयुष्मान भारत जन आरोग्य योजना से जुड़े अस्पतालों में गड़बड़ी की सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक बार फिर इस योजना से जुड़े 10 अस्पताल जांच के घेरे में हैं। इन अस्पतालों पर लाभुक मरीज से पैसे लेने, पूरी चिकित्सीय सेवा नहीं देने, दवा खरीदवाने समेत कई अन्य गंभीर आरोप लगे हैं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से इन अस्पतालों की सूची सिविल सर्जन को सौंपी गई है और उन्हें जांच का निर्देश दिया गया है।

स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार इस सूची में असर्फी, पाटलिपुत्र नर्सिंग होम, जेपी हॉस्पिटल, प्रगति मेडिकल एवं रिसर्च सेंटर, सर्वमंगला नर्सिंग होम, सनराइज हॉस्पिटल, श्रेष्ठ नेत्रालय, आईएसजी, नयनदीप और आयूरिस अस्पताल शामिल हैं। सिविल सर्जन डॉ सीवी प्रतापन ने बताया कि पिछले दिनों वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में यह मामला उठा था। इसमें आयुष्मान से जुड़े जिले के 10 अस्पतालों की सूची उपलब्ध कराई गई है। इन अस्पतालों में आयुष्मान के लाभुक मरीज से पैसे लेने और आयुष्मान के तहत भुगतान के लिए बिल जमा करने, गुणवत्तापूर्ण इलाज नहीं देने, आईसीयू के सेटअप के बिना आईसीयू बता कर इलाज करने जैसे गंभीर आरोप हैं। विभाग के निर्देशानुसार इन मामलों की जांच शुरू कर दी गई है। संबंधित अस्पतालों से जवाब तलब किया गया है।

संचालकों के साथ की बैठक

इस मामले में सिविल सर्जन डॉ प्रतापन ने शुक्रवार को संबंधित अस्पताल के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की। सिविल सर्जन के कार्यालय कक्ष में आयोजित इस बैठक में उन्हें मामले की जानकारी दी गई और इसपर स्पष्टीकरण मांगा गया। उन्हें जल्द अपना लिखित जवाब देने का निर्देश दिया गया है।

धनबाद के सिविल सर्जन डॉ सीवी प्रतापन ने कहा, 'विभाग ने 10 अस्पतालों की सूची दी है। इन पर आयुष्मान के मरीज से पैसे लेने समेत कई तरह की गड़बड़ियों की शिकायत है। मामले की जांच शुरू कर दी गई है। अस्पताल संचालकों के साथ बैठक कर उनसे उनका पक्ष देने का कहा गया है।'