DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

JAC 12th result:साइंस और कॉमर्स के छात्रों की दिखी हिन्दी में दिलचस्पी

jac 12th result

झारखंड एकेडेमिक काउंसिल (जैक) की ओर से गुरुवार को इंटमीडिएट साइंस और कॉमर्स का रिजल्ट जारी किया गया। कॉमर्स में जहां 67.49 विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए हैं वहीं साइंस में इस बार 48.34 फीसदी विद्यार्थी पास हुए हैं। परिणाम के अनुसार साइंस और कॉमर्स के विद्यार्थियों की सबसे ज्यादा दिलचस्पी भाषा में है। दोनों संकाय में 97 फीसदी से ज्यादा विद्यार्थी कोर हिन्दी में पास हुए हैं। कॉमर्स से हिन्दी में कुल 13744 विद्यार्थी, तो साइंस में 14752 विद्यार्थी हिन्दी की परीक्षा में शामिल हुए थे। वहीं अंग्रेजी में सफलता का प्रतिशत कॉमर्स में 90.18 फीसदी और साइंस में 94.66 फीसदी रहा। 

JAC 12th Result: अति पिछड़े वर्ग के विद्यार्थियों ने मारी बाजी

भौतिक व रसायन में सबसे ज्यादा विद्यार्थी फेल
विज्ञान के सबसे ज्यादा विद्यार्थी भौतिक और रसायन शास्त्र में फेल हुए हैं। दोनों विषय में औसतन 32 फीसदी से ज्यादा विद्यार्थी फेल हुए हैं। 90160 विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हुए थे। वहीं गणित में पास करने वाले छात्रों की  संख्या 70.16 फीसदी है। विज्ञान के 47174 विद्यार्थी कॉमर्स की परीक्षा में शामिल हुए थे, इसमें 93.20 फीसदी छात्र उत्तीर्ण हुए हैं।   

बिजनेस स्टडीज में 95 फीसदी पास 
हिन्दी और अंग्रेजी के बाद कॉमर्स के सबसे ज्यादा विद्यार्थी बिजनेस स्टडीज विषय में पास हुए है। इसमें छात्रों का सफलता प्रतिशत 95 फीसदी रहा है। एंत्रप्रन्योरशिप के विषय में 96.8 फीसदी, इकोनॉमिक्स में 91.8 फीसदी और एकाउंटेंसी में 77.16 फीसदी विद्यार्थी पास हुए हैं। 

बिजनेस के गणित में उलझे कॉमर्स के छात्र
कॉमर्स के विद्यार्थी सबसे ज्यादा बिजनेस मैथ्स स्टैटिस्टिक्स (बीएमटी) में फेल हुए हैं। इसमें 24.14 विद्यार्थी फेल कर गए है। कुल 21619 विद्यार्थी इसकी परीक्षा में शामिल हुए थे। इनमें 5220 विद्यार्थी फेल हुए, जबकि 16399 विद्यार्थी पास हुए। इसके अलावा कंप्यूटर साइंस में 13 और इकॉनॉमिक्स में आठ फीसदी छात्र फेल हुए हैं।   

JAC 12th Result 2018: साइंस में पलामू, कॉमर्स में सिमडेगा अव्वल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:jac 12th result Science and Commerce students showed more interest in Hindi language subject according to result