ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंडकांग्रेस विधायक अनूप सिंह और प्रदीप यादव के यहां आईटी ने मारा छापा

कांग्रेस विधायक अनूप सिंह और प्रदीप यादव के यहां आईटी ने मारा छापा

शुक्रवार अहले सुबह झारखंड कांग्रेस के कुछ विधायकों के आवास पर आईटी के छापे की खबर है। मिल रही जानकारी के मुताबिक आईटी ने कांग्रेस विधायक प्रदीप यादव और अनूप सिंह के आवास पर छापा मारा।

कांग्रेस विधायक अनूप सिंह और प्रदीप यादव के यहां आईटी ने मारा छापा
Suraj Thakurलाइव हिन्दुस्तान,रांचीFri, 04 Nov 2022 09:51 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

झारखंड में जारी सियासी हलचल के बीच एक और बड़ी खबर सामने आ रही है। शुक्रवार अहले सुबह झारखंड कांग्रेस के कुछ विधायकों के आवास पर आईटी के छापे की खबर है। मिल रही जानकारी के मुताबिक आईटी ने कांग्रेस विधायक प्रदीप यादव और अनूप सिंह के आवास पर छापा मारा।  बता दें कि प्रदीप यादव पोड़ैयाहाट से विधायक हैं वहीं अनूप सिंह बेरमो से विधायक हैं। प्रदीप यादव के पंचवटी (कांके रोड) स्थित पर छापेमारी हो रही है। 

कैश कांड प्रकरण में चर्चा में रहे थे अनूप सिंह

आयकर विभाग ने विधायक अनूप सिंह के फुसरो के ढोरी स्टाफ क्वार्टर स्थित आवास पर भी छापा मारा है। शुक्रवार अहले सुबह कुल 8 वाहनों के जरिए आईटी की टीम अनूप सिंह के आवास पर पहुंची। उस वक्त अनूप सिंह अपने आवास पर नहीं थे। वे बुधवार को ही रांची के लिए निकल गए थे। बता दें कि रांची कचहरी चौक स्थित आवास पर भी आईटी की छापेमारी जारी है। यहां कोयला व्यवसायी अजय सिंह के आवास पर भी छापेमारी जारी है। 

बता दें कि बेरमो विधायक कुमार जयमंगल उर्फ अनूप सिंह का नाम कांग्रेस विधायकों के हालिया कैश कांड में सामने आया था। दरअसल, कांग्रेस विधायक डॉ. इरफान अंसारी, राजेश कच्छप और नमन बिक्सल कोंगाड़ी के हावड़ा में 49 लाख रुपये कैश के साथ पकड़े जाने के बाद अनूप सिंह ने रांची के अरगोड़ा थाने में प्राथमिकी दर्ज करवाई थी। अनूप सिंह ने आरोप लगाया था कि डॉ. इरफान अंसारी ने उन्हें बीजेपी के सहयोग से सरकार गिराने में मदद करने के एवज में 10 करोड़ रुपये कैश और मंत्रीपद का ऑफर दिया था। मामले में कोलकाता पुलिस ने अनूप सिंह से भी पूछताछ की थी। 

कुछ बिल्डरों के यहां भी आईटी ने मारा छापा
खबरें ये भी है कि आईटी ने कुछ बिल्डरों के यहां भी छापा मारा है। हालांकि, अभी इस बारे में विस्तृत जानकारी बाहर नहीं आई है। बता दें कि मंगलवार देर रात ईडी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को समन जारी किया था। सीएम हेमंत को 3 नवंबर को पूछताछ के लिए रांची स्थित ईडी के जोनल ऑफिस में बुलाया गया था लेकिन पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों में व्यस्तता का हवाला देकर सीएम हाजिर नहीं हुए। उन्होंने पत्र लिखकर 3 हफ्ते का वक्त मांगा। ईडी द्वारा सीएम हेमंत सोरेन को समन जारी किए जाने पर झारखंड में सियासी हलचल तेज हो गई है। सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच सियासी बयानबाजियां हो रही है। आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। गुरुवार को झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता और कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन भी किया था। 

कांग्रेस विधायकों के घर छापे से गरमाएगी सियासत
सत्तापक्ष, केंद्रीय एजेंसियों की हालिया कार्रवाई को लेकर लगातार मुख्य विपक्षी पार्टी बीजेपी और केंद्र सरकार पर हमलावर है। महागठबंधन सरकार को अस्थिर करने के लिए संवैधानिक संस्थाओं के दुरुपयोग का आरोप लगा रहा है। सीएम खुद, इसे आदिवासियों की आवाज दबाने की कवायद करार दे चुके हैं। इन सबके बीच कांग्रेस विधायकों के यहां आईटी के छापे के बाद सियासी हलचल और तेज होगी इसकी प्रबल आशंका है। देखना दिलचस्प होगा कि सत्तापक्ष इस पर क्या कहता है?