ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंडझारखंड में भी चक्रवाती तूफान 'रेमल' का असर, इन इलाकों में 29 मई तक येलो अलर्ट

झारखंड में भी चक्रवाती तूफान 'रेमल' का असर, इन इलाकों में 29 मई तक येलो अलर्ट

Cyclone Remal in Jharkhand: पाकुड़ जिले के महेशपुर में 24 घंटों के अंतराल में सबसे अधिक 12.4 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई, जबकि राज्य के अन्य हिस्सों में तेज आंधी और हल्की बारिश भी हुई।

झारखंड में भी चक्रवाती तूफान 'रेमल' का असर, इन इलाकों में 29 मई तक येलो अलर्ट
Devesh Mishraहिन्दुस्तान,रांचीTue, 28 May 2024 06:45 AM
ऐप पर पढ़ें

चक्रवाती तूफान 'रेमल' ने बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल में तबाही मचाई है। वहीं झारखंड के संताल इलाके में सोमवार को तूफान का ज्यादा असर दिखा। साहिबगंज और पाकुड़ में रविवार की रात से ही तेज हवा चलने लगी थी। सोमवार सुबह से रिमझिम बारिश शुरू हो गई। हवा की रफ्तार 30-40 किमी प्रति घंटे रही।

इन इलाकों में 29 मई तक येलो अलर्ट
पाकुड़ जिले के महेशपुर में 24 घंटों के अंतराल में सबसे अधिक 12.4 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई, जबकि राज्य के अन्य हिस्सों में तेज आंधी और हल्की बारिश भी हुई। साहिबगंज में पेड़ गिरने से कई इलाकों में बिजली आपूर्ति बंद रही। दुमका और गोड्डा में भी सुबह में कहीं-कहीं हल्की बारिश हुई। इधर, मौसम विभाग ने देवघर, धनबाद, दुमका, गिरिडीह, गोड्डा, जामताड़ा, पाकुड़, साहिबगंज में 29 मई तक तेज हवा और बारिश का यलो अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के अनुसार, हवा की गति 30- 40 किमी प्रतिघंटा होगी। हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश के आसार हैं।

31 मई तक रांची में गर्मी से राहत नहीं
मौसम विभाग ने अपने पूर्वानुमान में कहा है कि राजधानी रांची में 31 मई तक लोगों को गर्मी से राहत नहीं मिलने वाली है। इस अवधि में अधिकतम तापमान 40 डिग्री और न्यूनतम पारा 28 डिग्री के आसपास रहने की संभावना है।

रेमल का बंगाल में बरपा कहर
चक्रवाती तूफान रेमल से जहां भारत और बांग्लादेश में भारी क्षति हुई है, वहीं अमेरिका में शक्तिशाली तूफान से जान माल का नुकसान हुआ है। रेमल से नौ लोगों की मौत हुई इनमें पश्चिम बंगाल के दो और बांग्लादेश के सात लोग शामिल हैं। वहीं, टेक्सास में दो बच्चों समेत 18 लोगों की जान चली गई।

रेमल के कारण रविवार की रात 135 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चली थीं। सोमवार को आपदा प्रबंधन के एक अधिकारी ने बताया कि एंटली के बिबीर बागान इलाके में रविवार शाम को मूसलाधार बारिश हुई। कोलकाता और राज्य के अन्य तटीय जिलों में झोपड़ियों की छत हवा में उड़ गईं, पेड़ उखड़ गए और बिजली के खंभे गिर गए, जिस कारण राज्य के कई हिस्सों में बिजली की आपूर्ति प्रभावित हुई। कई इलाकों में जलजमाव की स्थिति देखी गई।