ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडHindustan Special: एचईसी के लिए भी अब कार्यादेश हासिल करेगा BHEL, शॉर्ट टर्म प्लान के तहत बनाई योजना

Hindustan Special: एचईसी के लिए भी अब कार्यादेश हासिल करेगा BHEL, शॉर्ट टर्म प्लान के तहत बनाई योजना

कोल इंडिया समेत अन्य प्रतिष्ठानों के बड़े कार्यादेश भी भेल हासिल करेगा। जरूरत पड़ने पर भेल और एचईसी कार्यादेश हासिल करने के लिए संयुक्त टेंडर भी डालेंगे।

Hindustan Special: एचईसी के लिए भी अब कार्यादेश हासिल करेगा BHEL, शॉर्ट टर्म प्लान के तहत बनाई योजना
Swati Kumariहिन्दुस्तान,रांचीThu, 22 Feb 2024 11:04 PM
ऐप पर पढ़ें

एचईसी को पटरी पर लाने के लिए भारी उद्योग मंत्रालय ने भेल के माध्यम से योजना बनायी है। इसके तहत एचईसी में होने वाले निर्माण से संबंधित कार्यादेश एचईसी को दिया जाएगा। इसके साथ ही भेल एचईसी के लिए कार्यादेश भी हासिल करेगा। जब तक एचईसी का भेल में विलय नहीं हो जाता, तब तक एचईसी के लिए कार्यादेश लेगा। इसके साथ ही कोल इंडिया समेत अन्य प्रतिष्ठानों के बड़े कार्यादेश भी भेल हासिल करेगा। जरूरत पड़ने पर भेल और एचईसी कार्यादेश हासिल करने के लिए संयुक्त टेंडर भी डालेंगे। यह प्रक्रिया एचईसी के बारे में अंतिम निर्णय लिए जाने तक जारी रहेगी।

मंत्रालय शॉर्ट टर्म प्लान के तहत एचईसी को करीब एक हजार करोड़ का कार्यादेश देगा। यह कार्यादेश बड़े क्रेनों से संबंधित है। इससे होने वाला लाभ भी एचईसी को मिलेगा। इसके निर्माण के लिए संसाधन भी भेल ही उपलब्ध कराएगा। इससे एचईसी की मौजूदा आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। एचईसी की वर्तमान आर्थिक स्थिति, देनदारी, प्लांटों के जीर्णोद्धार व करीब 1200 करोड़ रुपए के कार्यादेश को देखते हुए एचईसी को भेल में मर्जर करने की कवायद शुरू की गई है।

भेल का साझेदार बनने के बाद कोल इंडिया की विभिन्न कंपनियों से भी एचईसी को कार्यादेश मिलेंगे। इसके लिए भेल भी मदद करेगा। एनसीएल से करीब 450 करोड़ का कार्यादेश हासिल करने के लिए भी प्रयास किया जाएगा। इसके अलावा शॉवेल और ड्रैगलाइन का कार्यादेश भी लिया जाएगा।

लंबे समय से कोल इंडिया से नहीं मिला कार्यादेश
एचईसी को लंबे समय से कोल इंडिया का बड़ा कार्यादेश नहीं मिला है, जबकि एचईसी कोल इंडिया के लिए पांच और दस क्यूबिक मीटर क्षमता वाले शॉवेल का निर्माण करता रहा है। अब तक 500 से अधिक शॉवेल की आपूर्ति एचईसी विभिन्न कंपनियों को कर चुका है। एचईसी की आर्थिक स्थिति में सुधार होने के बाद इस तरह के कार्यादेश हासिल कर एचईसी अपना उत्पादन बढ़ाएगा और कार्यशील पूंजी भी एकत्र करेगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें