Friday, January 28, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंडझारखंड: वोकेशनल कोर्स कर रहे छात्र-छात्राओं के आगे की पढ़ाई के लिए नई रणनीति, इंजीनियरिंग संस्थानों से जुड़ेंगे सूबे के स्कूल

झारखंड: वोकेशनल कोर्स कर रहे छात्र-छात्राओं के आगे की पढ़ाई के लिए नई रणनीति, इंजीनियरिंग संस्थानों से जुड़ेंगे सूबे के स्कूल

निर्भय,रांचीSudhir Kumar
Sun, 05 Dec 2021 07:43 AM
झारखंड: वोकेशनल कोर्स कर रहे छात्र-छात्राओं के आगे की पढ़ाई के लिए नई रणनीति, इंजीनियरिंग संस्थानों से जुड़ेंगे सूबे के स्कूल

इस खबर को सुनें

राज्य के सरकारी हाई स्कूल और प्लस टू स्कूलों को इंजीनियरिंग कॉलेज, आईटीआई और पॉलिटेक्निक से जोड़ा जाएगा। वोकेशनल की पढ़ाई कर रहे छात्र-छात्राओं की आगे की पढ़ाई जारी रखने के लिए यह व्यवस्था की जाएगी। नए शैक्षणिक सत्र से इस व्यवस्था को लागू करने की तैयारी स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग कर रहा है।

विभिन्न ट्रेड में होती है वोकेशनल की पढ़ाई

शिक्षा विभाग अब तक इंटरमीडिएट में वोकेशनल के छात्रों के प्लेसमेंट की व्यवस्था करता था। वोकेशनल पढ़ने वाले जो छात्र छात्र आगे काम करना चाहते थे, उनके लिए प्लेसमेंट कंपनियों को बुलाया जाता था और उनका विभिन्न तरह के कामों के लिए चयन किया जाता था। अब राज्य सरकार वोकेशनल पढ़ रहे मैट्रिक और इंटरमीडिएट के छात्र छात्राओं को आगे की पढ़ाई जारी रखने की व्यवस्था करेगी। जो छात्र-छात्रा आगे की पढ़ाई जारी रखना चाहते हैं, वह आईटीआई, पॉलिटेक्निक के साथ-साथ इंजीनियरिंग कॉलेज में कैसे नामांकन ले सकते हैं इसकी जानकारी दी जाएगी और उन्हें नामांकित कराया जाएगा। इसके लिए हर स्कूल से 10 से 20 किलोमीटर की रेडियस वाले इंजीनियरिंग कॉलेज पॉलिटेक्निक और आईटीआई को स्कूलों से टैग किया जाएगा। 12वीं के बाद जो छात्र-छात्रा पॉलिटेक्निक या फिर आईटीआई से कोर्स करना चाहेंगे तो उन्हें वहां सुविधा दी जाएगी।

05 हजार छात्र-छात्राएं वोकेशनल की पढ़ाई कर रहे हैं झारखंड में

राज्य में 9वीं-10वीं और 11वीं- 12वीं में 10-10 विभिन्न ट्रेड में वोकेशनल की पढ़ाई होती है। वर्तमान में हर स्कूलों में दो-दो ट्रेड में नामांकन होता है। पिछले साल तक हर ट्रेड में 40-40 बच्चों का नामांकन होता था, लेकिन अब इस बार से इसमें बदलाव किया गया है और नामांकन की सीमा को खत्म कर दिया गया है। इससे वोकेशनल पढ़ने वाले छात्र छात्राओं की संख्या बढ़ने की संभावना है। राज्य में करीब 5000 छात्र-छात्रा वोकेशनल की पढ़ाई कर रहे हैं।

इन ट्रेड पर होती है वोकेशनल की पढ़ाई

एपरल एंड होम फर्निशिंग, एग्रीकल्चर, आटोमोटिव, ब्यूटी एंड वैलनेस, इलेक्ट्रॉनिक एंड हार्डवेयर हेल्थकेयर, आईटी एंड आईटीस, रिटेल, टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी, मीडिया एंड एंटरटेनमेंट और मल्टी स्किलिंग।

epaper

संबंधित खबरें