ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडसहयोग नहीं करते, सच छिपाते हैं और साइन भी नहीं कर रहे, हेमंत सोरेन को लेकर ED ने किए क्या-क्या दावे

सहयोग नहीं करते, सच छिपाते हैं और साइन भी नहीं कर रहे, हेमंत सोरेन को लेकर ED ने किए क्या-क्या दावे

ED ने कहा, 'आरोपी शख्स हेमंत सोरेन लगातार असहयोग वाला रवैया अपना रहे हैं। जांच एजेंसी ने आगे कहा, 'आरोपी शख्स ने यहां तक की हस्ताक्षर करने औऱ WhatsApp चैट को भी मानने से इनकार कर दिया।'

सहयोग नहीं करते, सच छिपाते हैं और साइन भी नहीं कर रहे, हेमंत सोरेन को लेकर ED ने किए क्या-क्या दावे
Nishant Nandanपीटीआई,रांचीMon, 12 Feb 2024 08:41 PM
ऐप पर पढ़ें

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को लेकर ED ने आरोप लगाया है कि वो जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। प्रवर्तन निदेशालय ने सोमवार को आरोप लगाया कि जो मनी लॉन्ड्रिंग का केस उनके खिलाफ चल रहा है, उसकी जांच में वो पूरी तरह से असहयोग वाला रवैया अपना रहे हैं। जांच एजेंसी ने कहा कि जिस जमीन को कब्जाने का आरोप सोरेन पर है उसके राज खोलने की उनकी इच्छा बिल्कुल नहीं है। जांच एजेंसी ने 48 साल के JMM नेता को PMLA कोर्ट में जज राजीव रंजन के समक्ष पेश किया था। जज ने हेमंत सोरेन को तीन दिनों की रिमांड पर भेजा है। 

जांच एजेंसी ने चअदालत से कहा कि हेमंत सोरेन और उनके एक नजदीकी सहयोगी बिनोद सिंह के बीच WhatsApp चैट से उजागर हुआ है कि बारागई इलाके में जिस 8.5 एकड़ जमीन को लेकर एजेंसी यह दावा कर रही है कि उसे गैर कानूनी तरीके से हथिया लिया गया है उस जमीन पर Banquet Hall बनाने की तैयारी थी। 

WhatsApp चैट से हेमंत सोरेन का सामना

ED ने अदालत में हेमंत सोरेन की 4 दिनों की रिमांड मांगी थी। इसके लिए जो दस्तावेज अदालत के समक्ष जांच एजेंसी ने रखे उसमें कहा गया है, 'आरोपी शख्स हेमंत सोरेन लगातार असहयोग वाला रवैया अपना रहे हैं और वो खुद के द्वारा तथा उनसे जुड़े दूसरे लोगों के द्वारा ली गई जमीन से जुड़े सच्चे तथ्यों को बताने से कतराते हैं।' एजेंसी ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री को उनके सहयोगी बिनोद सिंह के साथ WhatsApp पर हुई चैट को दिखा कर सवाल पूछे गए थे। इसमें इस गैर कानूनी प्रॉपर्टी की बात थी। 

WhatsApp चैट को भी मानने से किया इनकार

एजेंसी ने आगे कहा, 'आरोपी शख्स ने यहां तक की हस्ताक्षर करने औऱ WhatsApp चैट को भी मानने से इनकार कर दिया।' ED का दावा है , 'हेमंत सोरेन औऱ बिनोद सिंह के बीच WhatsApp चैट की स्क्रूटनी से पता चला है कि 06.04.2021 को बिनोद सिंह ने बैंक्वेट हॉल को लेकर जो प्लान/नक्शा भेजा उसे हेमंत सोरेन ने पहचाना था। इस प्लान के मुताबिक ही प्रस्तावित बैंक्वेट हॉल को को बनाया जाना था। यह हॉल उसी साढ़े आठ एकड़ जमीन पर बननी थी जिसे हेमंत सोरेन ने अपने कब्जे में लिया है।'

ED ने जमीन को लेकर किया यह दावा

अदालत को ईडी के अधिकारियों ने बताया कि बारगई सर्किल के अधिकारियों, बिनोद सिंह, भानू प्रताप प्रसाद की मौजूदगी में उन्होंने 10 फरवरी को एक सर्वे किया था। इस सर्वे में यह बात साबित हुई थी कि हॉल बनाने को लेकर बिनोद सिंह ने जो प्लान हेमंत सोरेन को शेयर किया था वो उसी साढ़े आठ एकड़ जमीन पर बननी थी जिसपर कब्जा किया गया था।

ईडी ने दावा किया कि जिस स्थान पर यह बैंक्वेट हॉल बनाने का प्लान किया गया था वो इस जमीन के अलावा दूसरी ऐसी कोई जगह उपलब्ध नहीं है जिसपर इतना बड़ा निर्माण कार्य किया जा सके। ईडी ने अदालत में कहा कि हेमंत सोरेन सहयोग नहीं कर रहे हैं, इसलिए भी उनकी रिमांड अवधि बढ़ाई जाए। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें