DA Image
13 अप्रैल, 2021|7:40|IST

अगली स्टोरी

गिरिडीह : भेलवाघाटी में झारखंड-बिहार सीमा पर विस्फोटकों का जखीरा बरामद

                                                                                                                                  -

देवरी अंचल व भेलवाघाटी थाना क्षेत्र के महेशकिशोर-भतुआकुरहा पहाड़ी और नदी के पास जमीन में गाड़े गए विस्फोटक को सीआरपीएफ व पुलिस ने रविवार को बरामद किया। विस्फोटक पुलिस को टारगेट कर गाड़ा गया था।

इसके अलावा सीआरपीएफ और पुलिस ने चकाई थाना के भतुआकुरहा नदी के उस पार गुडुरबाद पहाड़ी के पास स्थित एक आरा मिल में लकड़ी के भूसा में छुपाकर रखे भारी मात्रा में विस्फोटक भी बरामद किया। महेशकिशोर-भतुआकुरहा पहाड़ी झारखंड में और गुडुरबाद बिहार में पड़ता है। दोनों की दूरी ढाई सौ मीटर है। झारखंड-बिहार सीमा के पास यह नक्सलियों द्वारा छिपाया गया था। विस्फोटक की बरामदगी से सीमाई क्षेत्र के गांवों में दहशत फैल गया है। इस संबंध में भेलवाघाटी स्थित सीआरपीएफ के 7/बीएन बटालियन के सहायक कमांडेंट अजय कुमार, थाना प्रभारी एमजे खान, चकाई स्थित 215 बटालियन के सहायक कमांडेंट राधेश्याम मीणा तथा चकाई थाना के एसआई बीडीओ किस्कू ने बताया कि रविवार को सीमाई क्षेत्र के गांवों व जंगलों में झारखंड-बिहार के सीआरपीएफ व पुलिस के जवानों द्वारा संयुक्त सर्च अभियान चलाया जा रहा था। इसी दौरान भतुआकुरहा पहाड़ी के पास तथा गुडुरबाद पहाड़ी में अवस्थित एक आरा मिल में जमीन के अंदर विस्फोटकों का जखीरा गाड़े रहने की सूचना मिली। मामले की आवश्यक रूप से जांच पड़ताल कर एक-एक कर दोनों स्थानों से विस्फोटक सामग्री को बरामद कर लिया गया।

विस्फोटक को बम निरोधक दस्ता ने किया डिफ्यूज :  देवरी अंचल व भेलवाघाटी थाना क्षेत्र के महेशकिशोर-भतुआकुरहा पहाड़ी और नदी के पास विस्फोटक की बरामदगी के बाद वरीय अधिकारियों के निर्देश पर सभी जिलेटीन व डेटोनेटर को बम निरोधक दस्ता के सदस्यों ने विस्फोट कर डिफ्यूज कर दिया। अधिकारियों ने बताया कि नक्सलियों के द्वारा लगाए गए विस्फोटक के फटने से पुलिस व सीआरपीएफ को काफी नुकसान पहुंच सकता था। बताया कि क्षेत्र में सीआरपीएफ व पुलिस की संयुक्त गश्त लगातार जारी रहेगी। मौके पर भेलवाघाटी व चकाई में पदस्थापित पुलिस, सीआरपीएफ, सेट आदि के कई जवान उपस्थित थे। 

बिहार और झारखंड के इन गांवों में भारी खौफ : विस्फोटकों की बरामदगी के बाद हरकुंड, महेशकिशोर, सागबारी, भतुआकुरहा, पोचाटांड़, जरहा, कारीझाल, होरमातरी, तेतरिया, हथगड़ आदि और बिहार के मंझिलाडीह, मड़वा, गोसबारा, बरमोरिया और रखाटोला आदि गांवों के ग्रामीणों में भारी खौफ है। ग्रामीण इस संबंध में कुछ भी बताना नहीं चाहते हैं, लेकिन अनुमान है कि नक्सलियों को नुकसान होने पर वे प्रतिशोध में कुछ कदम उठा सकते हैं। इससे ग्रामीण डरे-सहमे हैं। पुलिस भी काफी चाक-चौकस है। वहीं बरामद विस्फोटक के जखीरा से झारखंड-विहार के सीमा के पास के गांव में दहशत को माहौल है।

क्या-क्या हुआ बरामद : बरामद हुए विसफोटकों में क्रमश: भतुआकुरहा पहाड़ी में चार डेटोनेटर, 42 पीस जिलेटीन, 12 वोल्ट की सूखे सेल की एक बैट्री, टीन का दो डिब्बा तथा काटा हुआ लोहे का रड बरामद किया गया। वहीं बिहार के गुडुरबाद स्थित आरा मिल में 55 पीस जिलेटीन, चार पीस डेटोनेटर, 12 वोल्ट के सूखा सेल की एक बैट्री, लोहे की छड़ तथा टीन का दो डिब्बा आदि सामग्री बरामद की गई। वहीं प्रशासन इसको लेकर काफी सतर्क है।

पहले भी बरामद हुआ है विस्फोटकों का जखीरा : भेलवाघाटी और चकाई थाना क्षेत्र के सीमाई गांवों में कथित रूप से नक्सलियों द्वारा लगाए गए आइइडी सहित विस्फोटकों का जखीरा पूर्व में भी कई बार पुलिस ने बरामद हुआ है। जिसमें महेशकिशोर-सागबारी तथा करिहारी, गलफुलिया के जंगल समेत सोनरे नदी के पास अवस्थित पुल के किनारे आदि गांवों में आइइडी और विस्फोटक सामग्री बरामद की गई थी। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Giridih A cache of explosives recovered on the Jharkhand-Bihar border in Bhelwaghati