Wednesday, January 19, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंडशर्मनाक : झारखंड में 5 महिला कार्यकर्ताओं को किडनैप कर गैंगरेप, ब्लैकमेल के लिए बनाया वीडियो

शर्मनाक : झारखंड में 5 महिला कार्यकर्ताओं को किडनैप कर गैंगरेप, ब्लैकमेल के लिए बनाया वीडियो

खूंटी। संवाददाताAmit
Fri, 22 Jun 2018 02:42 PM
शर्मनाक : झारखंड में 5 महिला कार्यकर्ताओं को किडनैप कर गैंगरेप, ब्लैकमेल के लिए बनाया वीडियो

झारखंड के खूंटी जिले के अड़की प्रखंड के कोचांग गांव में पांच युवतियों के साथ दिनदहाड़े गैंगरेप किया गया। मानवता को शर्मसार करने वाली यह घटना मंगलवार को दिन के एक बजे हुई। पहले इस घटना को दबाने की कोशिश की गई, लेकिन बाद में मामला खुल गया। सूचना के बाद गुरुवार को खूंटी पहुंचे डीआईजी एवी होमकर ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि इस शर्मनाक वारदात को पत्थलगड़ी समर्थकों ने अंजाम दिया है। मामले की जांच और कार्रवाई के लिए पुलिस की तीन स्पेशल टीमों का गठन किया गया है। 
जानकारी के अनुसार पांचों युवतियां एक नाट्य संगठन में काम करती हैं। पलायन और मानव तस्करी के खिलाफ काम कर रहे एक संगठन के लिए वे नुक्कड़ नाटक करने कोचांग गई थीं। पीड़िताओं में एक शादीशुदा है।

क्या हुआ था : मंगलवार को एक गाड़ी से संगठन के लोग कोचांग में नक्कड़ नाटक करने गये थे। कोचांग की दूरी खूंटी जिला मुख्यालय से लगभग 45 किलोमीटर है। नाटक करने वाली टीम में पांच युवतियों समेत समेत कुल 11 लोग शामिल थे। नाटक का आयोजन कोचांग के आरसी चर्च परिसर स्थित आरसी मिशन स्कूल में था। दोपहर एक बजे कुछ हथियारबंद लोग वहां पहुंचे और नाटक का  प्रदर्शन रुकवा दिया। इसके बाद उन लोगों ने नाटक में शामिल सभी युवतियों और अन्य को जबर्दस्ती उसी गाड़ी में बैठा लिया, जिससे वे लोग वहां पहुंचे थे। 
गांव के लोगों के अनुसार इन युवतियों को लेकर अपहर्ता पास के जंगल में चले गये। लगभग तीन घंटे के बाद अपहर्ताओं ने टीम के सभी सदस्यों को छोड़ दिया। इस दौरान उन लोगों ने टीम में शामिल पांचों युवतियों के साथ दुष्कर्म किया। 

वीडियो भी बनाया : दुष्कर्म की घटना का वीडियो बनाये जाने की बात भी सामने आ रही है। घटना को अंजाम देने वालों ने युवतियों को धमकाया था कि वे ये बात किसी को नहीं बताएंगी और उन्हें जब बुलाया जाए वे आएंगी। ऐसा नहीं करने पर वीडियो वायरल कर दिया जाएगा। डीआईजी ने कहा कि वीडियो की जानकारी अब तक पुलिस के पास नहीं आई है। उन्होंने कहा कि पीड़िताओं की सुरक्षा और पुनर्वास की पूरी जिम्मेदारी प्रशासन निभाएगा।
घटना को दबाने की कोशिश
डीआईजी ने कहा कि इस अमानवीय घटना को दबाने की पूरी कोशिश की गई। अपुष्ट जानकारियों के आधार पर जिले के डीसी सूरज कुमार और एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा ने इसकी जांच शुरू की। बुधवार की रात एक पीड़िता को ढूंढ़ निकाला गया। उससे पूछताछ के बाद अन्य पीड़िताओं को भी प्रशासन ने ढूंढ़ निकाला। इनके अलावा टीम के पुरुष सदस्यों से लगभग छह घंटे तक डीआईजी एवी होमकर, डीसी सूरज कुमार, एसडीएम प्रणव कुमार पॉल, महिला थाना प्रभारी मीरा सिंह समेत विधिक विशेषज्ञों ने गहन पूछताछ की। 

एसपी पहुंचे कोचांग : घटना के बाद मामले की जांच करने और घटना में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा समेत जिले के कई पुलिस अधिकारी और काफी संख्या में पुलिस के जवान कोचांग पहुंचे। पुलिस घटना में शामिल अपराधियों की पहचान और उनकी गिरफ्तारी के प्रयास में जुटी है। 

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें