ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडझारखंड: रामगढ़ जिले में एक कॉलेज के लिए कई वर्षों से इंतजार कर रही है पांच लाख की आबादी

झारखंड: रामगढ़ जिले में एक कॉलेज के लिए कई वर्षों से इंतजार कर रही है पांच लाख की आबादी

झारखंड के रामगढ़ जिले के मांडू प्रखंड की लगभग एक दर्जन पंचायत ऐसी हैं, जहां के निर्धन परिवार आर्थिक तंगी के कारण अपने बच्चों को स्कूल से आगे की पढ़ाई नहीं करा पाते हैं।

झारखंड: रामगढ़ जिले में एक कॉलेज के लिए कई वर्षों से इंतजार कर रही है पांच लाख की आबादी
Devesh Mishraबिनोद सिंह,वेस्ट बोकारो (रामगढ़)Sat, 24 Feb 2024 11:06 PM
ऐप पर पढ़ें

केंद्र से लेकर राज्य सरकार लोगों को शिक्षित बनाने के लिए कई योजनाएं ला रही है। लेकिन आज भी झारखंड के रामगढ़ जिले के मांडू प्रखंड की लगभग एक दर्जन पंचायत ऐसी हैं, जहां के निर्धन परिवार आर्थिक तंगी के कारण अपने बच्चों को स्कूल से आगे की पढ़ाई नहीं करा पाते हैं। क्षेत्र की लइयो उतरी पंचायत, लइयो दक्षिणी पंचायत, इचाकडीह पंचायत, बसंतपुर पंचायत, केदला उतरी, मध्य और दक्षिणी पंचायत, बारुघुटू पूर्वी, मध्य और पश्चिमी पंचायत, नावाडीह पंचायत, सोनडीहा पंचायत, सारुबेड़ा और बड़गांव पंचायत के लगभग पांच लाख की आबादी एक स्थानीय स्तर पर एक कॉलेज के लिए इंतजार कर रही है। इलाके में एक भी कॉलेज नहीं है।

रामगढ़ और बोकारो जिले की सीमा पर स्थित लइयो उतरी पंचायत के मुखिया सुरेश उर्फ मदन महतो ने कहा कि पूरा क्षेत्र कोयले और उसके खनन से भरा हुआ है। यहां से मिलने वाले राजस्व से देश के कोने-कोने में विकास हो रहा है। लेकिन यहां एक भी कॉलेज का नहीं होना लोगों को काफी अखरता है। सरकार को इसके लिए पहल करनी चाहिए।

वहीं लइयो दक्षिणी की मुखिया गीता देवी ने कहा कि क्षेत्र में कॉलेज नहीं होने के कारण होनहार बच्चे खास तौर पर छात्राएं की प्रतिभा यहीं पर समाप्त हो जाती है। वहीं रामगढ़ उपायुक्त चंदन कुमार ने कहा कि शिक्षा से ही समाज और देश का बेहतर निर्माण हो सकता है। समाज में सभी को अपनी योग्यता अनुसार शिक्षा मिले इससे अच्छा और कुछ नहीं हो सकता। कॉलेज निर्माण को लेकर उन्होंने कहा कि क्षेत्र के जन प्रतिनिधि संयुक्त रूप से आवेदन दें ताकि मैं व्यक्तिगत तौर पर पहल करूंगा। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें